header ads

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया


नक्सलियों से हुए मुठभेड़ में 4 जवान शहीद हुए.
झारखंड के लातेहार में नक्सली हमला हुआ. चार पुलिसकर्मी शहीद हुए. हमला 22 नवंबर को हुआ. और इसी दिन लातेहर में एक बीजेपी नेता पार्टी का गुणगान कर रहे थे. कह रहे थे कि बीजेपी ने झारखंड से नक्सलवाद को समाप्त कर दिया है. इन नेता का नाम जगत प्रकाश नड्डा है. और ये BJP के कार्यकारी अध्यक्ष हैं. इनका वीडियो खुद BJP के ऑफिशियल हैंडल से शेयर किया गया है.


इसमें वो कह रहे हैं कि उन्होंने उग्रवादियों पर नकेल कसने का काम किया है. राज्य में कानून व्यवस्था बेहतर हुई है. अब कोई भी रात 12 बजे बेखौफ घूम सकता है.

पहले झारखंड में नक्सलवाद का बहुत प्रकोप था। दिन-दहाड़े घटनाएं घट जाती थीं। धड़ल्ले से नक्सलवाद का प्रचार हो रहा था।


लेकिन आज भाजपा सरकार में हम कह सकते हैं कि नक्सलवाद को झारखंड की धरती से लगभग समाप्त कर दिया गया है: 
वहीं, गृहमंत्री और BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी रैली को संबोधित करने के लिए 21 नवंबर को लातेहार पहुंचे थे. उन्होंने भी पार्टी का गुणगान किया. कहा कि मुख्यमंत्री रघुबर दास ने सबसे बड़ा काम किया है, जो कई वर्षों तक किसी सरकार ने नहीं किया. मुख्‍यमंत्री ने झारखंड को नक्सल मुक्त राज्य बनाया जिसके कारण सूबे का विकास हुआ.

रघुवर दास जी ने विकास के साथ-साथ सबसे बड़ा काम झारखंड को नक्सलवाद से मुक्त करने का किया है। 5 साल के अंदर नक्सलवाद को खत्म करने की दिशा में ढेर सारे कदम उठाए। जिसका परिणाम है कि झारखंड के कोने-कोने में बिजली, पानी, गैस सिलेंडर सब पहुंचा है: श्री अमित शाह

पर जब क्षेत्र में नक्सली हमाल हुआ, तो खुद रघुबर दास ने ट्वीट किया और हमले की निंदा की.


लातेहार में वीर जवानों पर किया गया हमला कायरता है। मैं इस नृशंस हमले की कड़ी निंदा करता हूं। हमारे बहादुर सुरक्षाकर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। पूरा झारखण्ड और देश बहादुर शहीदों के परिवारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।

इस नक्सली हमले में शहीद पुलिसकर्मियों की पहचान सब-इंस्पेक्टर सुकिया उरांव, कांस्टेबल दिनेस कुमार, कांस्टेबल सिकंदर सिंह, वाहन चालक यमुना राम के रूप में हुई है. हमले के दो दिन पहले यानी 20 नवंबर को चुनाव निर्वाचन आयोग ने नक्सल प्रभावित इलाकों में वोटिंग के दौरान खास सतर्कता बरतने का निर्देश दिया था. मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा था कि जिन इलाकों में वोटिंग होनी हैं, वहां के वोटर्स को भेजने और लाने का जिम्मा जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक का होगा.

बता दें कि झारखंड में 30 नवंबर से चुनाव होने हैं. लातेहार, गढ़वा, पलामू, गुमला, लोहरदगा और चतरा जिले की 13 विधानसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे..


Post a Comment

0 Comments