header ads

jamiya milliya islamiya news

'ये लो आजादी' कहकर युवक ने जामिया प्रोटेस्ट में की फायरिंग, पुलिस देखती रही jamiya milliya islamiya news


jamiya milliya islamiya news

आरोपी, जिसने गोली चलाई. घायल छात्र के लिए पुलिस ने बैरिकेड खोलने से मना कर दिया, तो बैरिकेड के ऊपर से जाना पड़ा.
नागरिकता संशोधन कानून यानी CAA और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर NRC के विरोध में कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. 30 जनवरी को दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से राजघाट तक मार्च निकाला जा रहा था. इस दौरान जामिया इलाके के पास एक युवक ने गोली चला दी.

वीडियो देखिए-



वीडियो में युवक कह रहा है- किसको चाहिए आजादी- ये लो आजादी, दिल्ली पुलिस ज़िंदाबाद, हिंदुस्तान ज़िंदाबाद वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि आरोपी युवक के पीछे कई पुलिसकर्मी खड़े हैं, लेकिन उनकी तरफ से वीडियो में युवक को पकड़ने के लिए कोई प्रयास नज़र नहीं आ रहे हैं.  साउथ ईस्ट दिल्ली के DCP चिन्मय बिस्वाल का कहना है कि वो इस मामले की जांच कर रहे हैं. उनके मुताबिक, राजघाट की तरफ जाने की इज़ाजत नहीं थी. प्रोटेस्टर्स से उस तरफ न जाने के लिए भी कहा गया था. आरोपी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. आरोपी नाबालिग बताया जा रहा है. 

jamiya milliya islamiya news

वहीं, जिस छात्र को गोली लगी उसके लिए पुलिस ने बैरिकेड नहीं खोला. घायल युवक को बैरिकेड के ऊपर से फांद कर जाना पड़ा. पहले उसे फैमिली हॉस्पिटल ले जाया गया था, और बाद में एम्स ट्रामा सेंटर में भर्ती करवाया गया है. छात्र का नाम शादाब है, वो मॉस कम्यूनिकेशन का छात्र बताया जा रहा है.

जामिया फायरिंग में घायल युवक कौन है?

पुलिस ने शादाब को हॉस्पिटल जाने देने के लिए बैरिकेडिंग नहीं खोली.
तारीख 30 जनवरी 2020. दिन गुरुवार का. दिल्ली के जामियानगर में संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में प्रोटेस्ट मार्च चल रहा था. इसी दौरान एक युवक ने ‘ये लो आज़ादी’ चिल्लाकर प्रोटेस्टर्स पर गोली चला दी. गोली चलाने वाले युवक को नाबालिग बताया जा रहा है. पुलिस ने बाद में युवक को हिरासत में ले लिया. इस युवक ने जामिया में गोली चलाने से पहले फेसबुक पर कई लाइव किए थे. हालांकि बाद में आरोपी युवक का फेसबुक अकाउंट डिएक्टिवेट कर दिया गया. इस घटना के बाद से पुलिस की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं.

jamiya milliya islamiya news

साउथ-ईस्ट डिस्ट्रिक्ट दिल्ली के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने बताया,

शादाब फारूक का बायां हाथ ज़ख्मी हुआ है. उसको ट्रॉमा सेंटर में रेफर किया गया है. डॉक्टर्स के अनुसार, वो खतरे से बाहर है. हिरासत में लिए गए युवक से पूछताछ की जा रही है.



इस गोलीबारी में एक युवक घायल हो गया. घायल युवक का नाम शादाब फारूक है. उसके हाथ में गोली लगी. उसे एम्स में भर्ती कराया गया है. दिल्ली पुलिस पर आरोप है कि उसने घायल युवक को रास्ता देने के लिए बैरिकेडिंग तक नहीं हटाई. शादाब को तीन बैरिकेडिंग फांदकर अस्पताल जाना पड़ा. शादाब जामिया मिलिया इस्लामिया में एमए मास कम्युनिकेशन के सेकेंड सेमेस्टर के स्टूडेंट हैं.


शादाब फ़ारुक़ ग्रेजुएशन के टाइम पर जामिया ड्रामा क्लब के सदस्य थे. शादाब को उनकी सिंगिंग और वॉयस ओवर आर्टिस्ट के तौर पर जामिया में पहचान मिली हुई है.


30 जनवरी के दिन पूरा देश महात्मा गांधी की शहादत को याद कर रहा है. और उसी दिन नफ़रत की एक और तस्वीर देखने को मिली है. ये हमारे चेत जाने का समय है.

जामिया स्टूडेंट को गोली मारने के बाद भारी विरोध, चिल्लाता है "ये लो आजादी"
जामिया: एक वीडियो में, आदमी को एक सड़क पर चलते देखा जा सकता है, प्रदर्शनकारियों पर "ये लो आज़ादी (यहाँ तुम्हारी आज़ादी)" चिल्लाते हुए।

जामिया के शूटर (बाएं) को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद गिरफ्तार किया गया था।

नई दिल्ली: दिल्ली के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय के पास नागरिकता कानून का विरोध कर रहे छात्रों पर एक किशोर ने आज बंदूक तान दी और गोलीबारी की, जिससे एक छात्र घायल हो गया। जब उसने गोली चलाई, उसके बाद ही पुलिस ने बड़ी संख्या में मौजूद लोगों को विरोध प्रदर्शन पर नज़र रखने के लिए कहा।
विरोध प्रदर्शनों में सैकड़ों की संख्या में शामिल हुए, पुलिस बैरिकेडिंग को तोड़ते हुए वे राजघाट की ओर मार्च करने की कोशिश करने लगे।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि उन्होंने शूटिंग की घटना में कठोर कार्रवाई का आदेश दिया है और "दोषी को बख्शा नहीं जाएगा"। जांच को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा में स्थानांतरित कर दिया गया है।

एक द्रुतशीतन वीडियो में, किशोरी को पीछे की ओर चलते देखा जाता है क्योंकि वह प्रदर्शनकारियों पर अपनी बंदूक चलाती है। दंगा गियर में दर्जनों पुलिसकर्मी उसके पीछे दिखाई पड़ते हैं, लेकिन उनमें से कोई भी शूटर को रोकने की कोशिश नहीं करता है।

"ये लो आज़ादी (यहाँ तुम्हारी आज़ादी है)" उन्होंने प्रदर्शनकारियों पर तंज कसा। जब वह गोली चलाता है, तो एक पुलिस अधिकारी उसकी ओर जाता हुआ दिखाई देता है और उसे पकड़ लेता है। यह कहते हुए कि वह एक किशोर था, पुलिस अधिकारियों ने कहा कि हमलावर का नाम नहीं लिया जा सकता है।

हटाए जाने के दौरान, उन्होंने चिल्लाया "दिल्ली पुलिस जिंदाबाद (लंबी दिल्ली पुलिस)"।

शूटर को हिरासत में लिया गया है और उससे पूछताछ की जा रही है। "एक भीड़ जामिया से आ रही थी। वह व्यक्ति भीड़ से आया था," वरिष्ठ पुलिस अधिकारी चिन्मॉय बिस्वाल ने NDTV को बताया क्योंकि पुलिस को उनकी धीमी प्रतिक्रिया के बारे में सवालों का सामना करना पड़ा।

यह घटना 8 फरवरी के दिल्ली चुनाव के प्रचार के दौरान किए गए अभद्र भाषणों की पृष्ठभूमि के खिलाफ है; केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर को एक रैली में "देश के गद्दारो को, गोरी मारो एस ***** को (को गोली मारो)" के नारे को प्रोत्साहित करते हुए कैमरे पर पकड़े जाने के 72 घंटों के लिए प्रचार करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

किशोरी दिल्ली के पास उत्तर प्रदेश के जेवर की रहने वाली है। जल्द ही उनके फेसबुक पेज पर विवरण उभरने लगे।

Post a Comment

0 Comments