header ads

Motivational Inspiring Heart Touching Success Story in Hindi

Motivational Inspiring Heart Touching Success Story in Hindi

Real-life inspirational stories in Hindi inspiring stories that touched heart pdf, Duniya ki best motivational stories, a short motivational story in Hindi for success

एक अंधे की सफलता की कहानीA Success Story in Hindi



एक गांव में राहुल नाम का एक लड़का रहता था जो जीवन में हार मान चुका था| वह life में जो कुछ भी करता था, उसको अपनी हार पहले से

ही नजर आती थी| स्कूल में अध्यापक और अन्य विद्यार्थी भी उसकी मजाक उड़ाते थे| वह अंधेरे कमरे में अक्सर रोता रहता था|

Motivational Inspiring Heart Touching Success Story in Hindi


एक दिन उसकी सिसकती हुई आवाज को सुनकर एक अंधा आदमी उसके पास आया और पूछा, ‘तुम क्यों रो रहे हो’|

राहुल ने उस आदमी को सारी बात बताई|






यह सुनकर वह आदमी जोर-जोर से हंसा और बोला, तुम्हें पता है, ‘जब मैं पैदा हुआ और लोगों ने देखा कि इस बच्चे की तो आंखें ही नहीं है, तो

उन्होंने मेरे माता-पिता को मुझे मार देने की सलाह दी’| उन लोगों ने मेरे माता-पिता को कहा की यह तो अंधा है| यह जीवन भर तड़पता

रहेगा,  इसलिए इसे मार देना ही अच्छा होगा| लेकिन मेरे माता-पिता ने उन लोगों की सलाह नहीं मानी| उन्होंने मुझे एक विशेष स्कूल में

भेजा और  मुझे पढ़ाया-लिखाया| जब मैं कॉलेज में admission लेने गया तो कॉलेज प्रशासन ने मेरा admission करने से मना कर दिया|

फिर मैंने विदेशी विश्वविद्यालय का फॉर्म भरा और MIT की स्कॉलरशिप पर graduation और post graduation की डिग्री ली| लेकिन



जब मैं वापस आया तो फिर मुझे महसूस हुआ कि नेत्रहीन(blind) होने के कारण मुझे कोई नौकरी नहीं देना चाहता| फिर मैंने अपनी कंपनी

शुरू की| इसलिए नहीं कि मेरे पास बहुत पैसा था यह मेरे पास कोई अनोखा आईडिया था| मैंने कंपनी इसलिए शुरू की क्योंकि मेरे पास और

कोई चारा ही नहीं था| लेकिन आज मुझे खुशी है कि आज मैं अपनी कंपनी के जरिए मेरे जैसे 5000 लोगों को नौकरी दे पाया हूं|



जीवन में जीत और हार आपकी सोच पर ही निर्भर करती है,
मान लो तो हार है और ठान लो तो जीत है|


आदमी की बात को सुनकर राहुल ने पूछा आप की कहानी से मेरा क्या वास्ता?

वह आदमी बोला, जैसे आज लोग तुम्हारी हंसी उड़ाते हैं, वैसे ही जिंदगी भर लोगों ने मेरी भी निंदा की, मेरा भी मजाक उड़ाया| लेकिन मैंने



खुद को कभी कमजोर नहीं समझा| जब दुनिया मुझे नीची नजरों से देखती थी और यह कहती थी कि तुम जिंदगी में कुछ नहीं कर सकते| तब

मैं उनकी आंखों में आंखें डाल कर बोलता था कि मैं कुछ भी कर सकता हूं| जैसे मैंने इतना सब कुछ किया वैसे ही तुम भी बहुत कुछ कर सकते

हो| इसलिए हिम्मत मत हारो| दुनिया क्या कहती है, इस बात की परवाह मत करो|

सीख:-


दुनिया आपको कैसे देखती है यह महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन आप खुद को
कैसे देखते हैं, यह सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है



 बेवकूफ गधा – A Donkey story



विकास जिस ऑफिस में काम करता था उसमें ऐसे लोग भी  थे जो विकास के अच्छे काम से बहुत चिढ़ते थे| एक दिन जब विकास खाना खा रहा था| तो उसे अपने पीछे वाली टेबल पर कुछ फुसफुसाहट सुनाई दी| टेबल के बीच में लकड़ी की एक दीवार थी|

Motivational Inspiring Heart Touching Success Story in Hindi

विकास कान लगाकर सुनने लगा| उसने सुना कि उसके ऑफिस के 2 लोग प्रमोशन के बारे में कुछ बात कर रहे हैं| उसमें से एक ने कहा इस बार वह चाहे जो भी कर ले उसे प्रमोशन नहीं लेने दूंगा|



दूसरा बोला लेकिन ऐसा क्यों? इस पर पहला बोला, बॉस ने कहा है कि वह अगले महीने तक विकास को कोई ना कोई बहाना बनाकर बाहर निकाल देंगे|

अब विकास जल्दी-जल्दी खाना खा अपना काम करने लगा एक हफ्ता बीत गया| एक दिन बॉस ने विकास को अपने कमरे में बुलाया और और उससे पूछा:- विकास, आजकल तुम्हारे काम की speed कुछ कम हो गई है ऐसा क्यों है? क्या कोई खास बात है?



विकास को लगा कि अपने बारे में जो कुछ मैंने सुना था वह बात अब सच होने जा रही है| विकास  बोला, सर, मुझे पता है कि आप मुझे कंपनी से निकालना चाहते हैं|

विकास की इस बात को सुनकर बहुत परेशान हो गए और उन्होंने पूछा, यह बात तुम्हारे दिमाग में किसने डाली कि कंपनी तुमको निकालना चाहती है| विकास ने पूरी घटना अपने बॉस को सुनाई| बॉस बोले, तुम्हें एक कहानी सुनाता हूं|





जंगल में एक गधा रहता था औरवह शेर का बहुत अच्छा मित्र था| शेर हर रोज एक जानवर को खा जाता था लेकिन क्योंकि गधा उसका दोस्त था इसलिए शेर उसकी तरफ कभी भी नहीं देखता था|

लोमड़ी को यह बात हजम नहीं होती थी| एक दिन जब गधा एक पेड़ के नीचे आराम कर रहा था तो लोमड़ी और खरगोश पेड़ के पीछे जाकर बात करने लगे|



अब गधे से रहा नहीं गया| गधा  उनकी बातें सुनने लगा| लोमड़ी बोली, पता है, गधा अभी तक कुंवारा क्यों हैं?
क्योंकि जो भी गधी जंगल में आती है शेर उसे खा जाता है|

गधे को इस बात से बड़ी ठेस पहुंची| लोमड़ी की वजह से गधे और शेर के बीच में दरार आ गई थी| एक दिन जब शेर अपने शिकार पर निकला तो गधा उससे जाकर बैठ गया और बोला मैं तुम्हें शिकार नहीं करने दूंगा |शेर ने उसे बहुत समझाया लेकिन गधा नहीं समझा|आखिरकार बेचारा गधा  शेर का शिकार बन गया|





बॉस हंसते हुए बोले, देखो विकास, लोमड़ी हर जगह मिलेगी, जो तुम्हारे काम को, तुम्हारे रिश्ते को खराब करने की कोशिश करेगी| यह तुम्हें तय करना है कि तुम क्या करोगे|

सीख:-
किसी की बात पर आंख मूंदकर भरोसा नहीं करना चाहिए| पहले उसे परखना जरूरी है




अकबर बीरबल की 21 मजेदार कहानियां
Akbar Birbal Stories in Hindi
 


चार मूर्ख


Motivational Inspiring Heart Touching Success Story in Hindi


एक दिन बादशाह के मन में एक बात आई कि संसार में मूर्खों की संख्या तो बहुत है, परंतु मैं चार सबसे बड़े मूर्खों को देखना चाहता हूं| बादशाह

ने बीरबल से कहा:- ‘जाओ, ऐसे चार मूर्खों की तलाश करो जिनके जैसा कोई और दूसरा ना मिले’| जो आज्ञा हुजूर, बीरबल ने कहा|



कुछ दूर जाने के बाद बीरबल को एक आदमी दिखाई पड़ा जो थाली में पान का एक बीड़ा और मिठाई लिए हुए बड़े उत्साह से नगर की तरफ

जल्दी-जल्दी भागा जा रहा था|

बीरबल (Birbal) ने उस आदमी से पूछा:- ‘क्यों साहब, कहां भागे जा रहे हो’? आपके पैर खुशी के मारे जमीन पर ही नहीं पड़ रहे हैं|

वह व्यक्ति बोला:- ‘हुजूर, मुझे विलंब हो रहा है| परंतु आपके इतने आग्रह करने पर मैं बता देना चाहता हूं कि मेरी औरत ने एक दूसरा मर्द कर

लिया है| उसके बुलावे पर मैं न्योते में जा रहा हूं’|

बीरबल ने उस आदमी को रोक लिया और कहा:- ‘ पहले तुम्हें बादशाह के पास चलना होगा, तभी तुम आगे जा सकोगे’|वह बादशाह का नाम

सुनकर डर गया तथा लाचार होकर बीरबल के साथ चल दिया|

बीरबल इसको लेकर आगे बढ़ा ही था कि रास्ते में एक घुड़सवार मिला जो एक घोड़ी पर सवार था| पर उसके सिर पर एक बड़ा गट्ठर रखा हुआ

था| बीरबल ने उस आदमी से पूछा:- ‘क्यों भाई, यह क्या मामला है| आप सिर का बोझ घोड़ी पर क्यों नहीं लाद देते’?



उस आदमी ने उत्तर दिया:- ‘हुजूर, मेरी यह घोड़ी गर्भ(पेट) से है| ऐसी दशा में उस पर इतना बोझ नहीं लादा जा सकता’| यह मुझे ले जा रही

है| क्या यह कम है?

बीरबल ने डरा-धमकाकर इस घोड़ी सवार को भी अपने साथ ले लिया| जब बीरबल दोनों व्यक्तियों के साथ बादशाह के सामने पहुंचे, तो

बीरबल ने कहा:- ‘यह चारों मूर्ख आपके सामने है हजूर’|

बादशाह ने कहा:- तीसरा और चौथा कहां है?

बीरबल ने कहा:- तीसरे मूर्ख आप हैं हुजूर, जो आपको ऐसे मूर्खों को देखने की इच्छा होती है और चौथा मूर्ख मैं हूं, जो ऐसे मूर्खों को ढूंढ कर

आपके पास लाया हूं|

बादशाह को बीरबल के इस उत्तर से हैरानी तो हुई लेकिन जब उन्हें उन दोनों की मूर्खता का परिचय मिला तो वह खिल खिलाकर हंस पड़े|

Akbar Birbal Stories in Hindi दो गधों का बोझ



एक बार बादशाह अकबर अपने पुत्र और बीरबल के साथ कहीं घूमने जा रहे थे| पिता-पुत्र दोनों ने अपनी पुस्तक तथा पानदान बीरबल को

थमा दिया|

बादशाह ने बीरबल का मजाक बनाया| अब तो तुम पर एक गधे का बोझ हो गया है, बीरबल| लेकिन बीरबल भी कहां चुप रहने वाला था| उसने

तुरंत ही उत्तर दिया:- “एक गधे का कहां हुजूर, दो गधों का बोझ हो गया है”|



यह सुनकर बादशाह झेंप गए| वह बीरबल का अर्थ समझ गए कि बीरबल ने किस सफाई से पिता और पुत्र दोनों को गधा कह दिया|

Akbar Birbal Stories in Hindi बैंगन का नहीं आपका नौकर हूं



एक बार बादशाह अकबर(Akbar) बैंगन की प्रशंसा कर रहे थे| बीरबल भी बादशाह की हां में हां मिला रहे थे| यही नहीं बल्कि अपनी तरफ से दो चार शब्द भी बैंगन की प्रशंसा में कह दिए|

एक दिन बादशाह ने बीरबल के सामने बैंगन की निंदा की| उस दिन भी बीरबल ने बादशाह की बात का समर्थन किया तथा बैंगन में दुर्गुण बताने शुरू कर दिए|

बादशाह को यह सुनकर ताज्जुब हुआ और बोले:- ‘बीरबल, तुम्हारी बात का यकीन नहीं है| कभी तुम प्रशंसा करते हो कभी निंदा करते हो| जब मैंने एक दिन बैंगन की तारीफ की थी और तुमने भी सराहना की थी और आज तुम जिंदा कर रहे हो, ऐसा क्यों है?

बीरबल ने उत्तर दिया कि जहांपनाह, मैं बैंगन का नहीं बल्कि आपका नौकर हूं| बादशाह इस बात को सुनकर बड़े मुस्कुराए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
बुला कर लाओ


एक दिन सुबह-सुबह बादशाह ने अपने एक सेवक को हुक्म दिया| ‘जाओ बुला कर लाओ’|

आगे कुछ नहीं बताया| सेवक ने भी नहीं पूछा और उसका साहस भी नहीं हुआ| लेकिन उसकी समझ में कुछ नहीं आ रहा था कि वह किसे बुला



कर लाए? उसने अपने सभी मित्रों से मदद मांगी, लेकिन कोई बात नहीं बनी| अंत में वह बीरबल के पास पहुंचा| वह जाते ही बीरबल के पैरों में

गया और गिड़गिड़ाकर कहने लगा:- ‘हुजूर, मेरी मदद करो| मैं बड़े संकट में फंस गया हूं’| बीरबल ने कहा:- ‘क्या बात है बताओ’| बात यह है

हुजूर, बादशाह ने आज हुक्म दिया है कि जाओ बुला कर लाओ| अब आप ही बताइए कि मैं किसे बुलाकर लाऊं, समझ में नहीं आ रहा है|

बीरबल ने पूछा:- ‘जिस समय हुक्म दिया था, वह क्या कर रहे थे’?

नहाने की तैयारी में थे| बीरबल ने कहा, तो जाओ जल्दी से नाई को बुला कर ले आओ| बादशाह, हजामत बनवाना चाहते हैं| सेवक नाई को

बुलाकर ले आया| बादशाह बहुत खुश हुए| उन्होंने पूछा:- ‘यह सलाह तुम्हें किसने दी, तुम तो इतने चतुर नहीं हो’|

सेवक ने डरते हुए कहा:- ‘बादशाह सलामत, यह सलाह मुझे बीरबल ने दी है’| बादशाह इस बात को सुनकर बड़े खुश हुए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
बादशाह की अंगूठी


एक बार बादशाह अकबर(Akbar) की अंगूठी कहीं खो गई| जब बीरबल दरबार में पहुंचे तो अकबर ने उनसे कहा बीरबल मेरी अंगूठी कहीं खो गई है| यह अंगूठी मुझे बहुत प्यारी थी, क्योंकि यह मेरे पिताजी ने मुझे उपहार के रूप में दी थी| क्या तुम इसे ढूंढने में मेरी मदद करोगे?

बीरबल ने कहा:- “आप चिंता ना करें जहांपनाह! आपकी अंगूठी तुरंत ही मिल जाएगी|” बीरबल ने कहा:-” हुजूर, आप की अंगूठी इसी दरबार में ही है| जिस व्यक्ति की दाढ़ी में तिनका है उसी के पास अंगूठी है|

जिस व्यक्ति के पास बादशाह की अंगूठी थी उसने घबरा कर अपने हाथ दाढ़ी पर रख लिए| बीरबल उसकी इस प्रतिक्रिया को समझ गया और उसने सैनिकों को उस व्यक्ति की तलाशी लेने के लिए कहा और उस व्यक्ति की तलाशी लेने पर वह अंगूठी उसकी जेब से पाई गई| बादशाह के आदेश पर उस व्यक्ति को कारावास में डाल दिया गया|





बीरबल (Birbal) की  बुद्धिमता से बादशाह अकबर बहुत खुश हुए और उन्होंने बीरबल से पूछा बीरबल मुझे बताओ कि तुम ने अपराधी को कैसे ढूंढ लिया| बीरबल ने बादशाह को बताया:- “जहांपनाह! मैंने तो तीर अंधेरे में मारा क्योंकि मुझे पता है कि अपराध करने वाला हमेशा डरता है| असली अपराधी ने अपनी दाढ़ी पर अपना हाथ बढ़ाकर यह साबित कर दिया कि वह ही अपराधी है|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
कौन सी ऋतु सबसे अच्छी


एक बार बादशाह ने भरी सभा में पूछा:- गर्मी, बरसात, सर्दी, हेमंत, शिशिर और बसंत इन छ: ऋतुओ में से सबसे अच्छी ऋतु कौन सी है?

सभी दरबारियों ने अपनी-अपनी अभिरुचि के अनुसार किसी ने कुछ और किसी ने कुछ बतलाया|

लेकिन दरबारियों की बात सुनकर बादशाह को मजा नहीं आया| फिर उन्होंने बीरबल से पूछा| बीरबल ने तुरंत ही जवाब दिया| ‘पेट भरे की

ऋतु अच्छी होती है, हुजूर’|

बादशाह ने कहा:- क्या मतलब? भूखों के लिए कुछ भी ठीक नहीं| सभी ऋतुए उनके लिए कष्टदाई होती है| लेकिन जिनका पेट भरा हुआ होता

है, उनके लिए सभी ऋतुए अच्छी होती हैं| बादशाह बीरबल की इस बात को सुनकर बड़े खुश हुए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
चार आलसी


एक दिन बादशाह को खबर मिली कि दो आलसी बेकार रहने के कारण होकर मर गए| दूसरे ही दिन बादशाह ने घोषणा कर दी कि राज्य में जितने भी आलसी लोग हैं उन सबको राज्यकोष से भोजन और वस्त्र मिलेंगे|

अब क्या था| धीरे-धीरे आलसियों की तादाद बढ़ने लगी और थोड़े ही दिनों में लाखों आलसी पैदा हो गए| बादशाह की चिंता बढ़ने लगी| तब उन्होंने बीरबल से अपनी चिंता प्रकट की| बीरबल ने सारे राज्य में घोषणा कर दी की फला दिन आलसियों को राज्य भंडार से कश्मीरी दुशाले बांटे जाएंगे|

इस खुशखबरी को सुनकर लाखों की भीड़ जमा हो गई| बीरबल ने पहले ही एक बड़ा विशाल बाड़ा बनवा रखा था बीरबल ने उन सभी बनावटी आलसियों को उस बाड़े में भर दिया| 5 मिनट में सारा बड़ा खाली हो गया| केवल चार व्यक्ति ऊंघ रहे थे|

बीरबल ने कहा जहांपनाह यही 4 सबसे बड़े आलसी है| बादशाह ने उन चारों को राज्य की ओर से खाने का सामान और कपड़े देकर विदा किया|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
किस नदी का जल उत्तम है


एक दिन सभा में बैठे हुए बादशाह ने अपने सभी दरबारियों से एक प्रश्न पूछा कि किस नदी का जल सबसे उत्तम है?

सभी दरबारियों ने एक स्वर में गंगा के जल की प्रधानता बताई| बीरबल तब तक चुप बैठे थे|



बीरबल को चुप देखकर बादशाह बोले:- ‘बीरबल तुम्हारी क्या राय है’?

बीरबल ने उत्तर दिया कि जहांपनाह, नदियों में यमुना नदी का जल सबसे उत्तम है| बादशाह यह सुनकर बोले, तुम्हारा दिमाग तो खराब

नहीं है| तुम्हारे ग्रंथों में तो गंगा जल की विशेष महिमा है और तुम यमुना के जल को उत्तम बता रहे हो|

बीरबल ने कहा:- ‘जहांपनाह, मैंने जो कुछ भी कहा है वह सोच समझकर ही कहा है’|

गंगाजल अमृत है, जिसकी तुलना जल से नहीं हो सकती है| इसीलिए मैंने यमुना नदी के जल को सर्वश्रेष्ठ बताया है| बीरबल के उत्तर से

बादशाह व अन्य दरबारी बड़े खुश हुए|



Akbar Birbal Stories in Hindi 
12 में से 4 गए तो बाकी क्या बचा


एक बार बादशाह ने बीरबल से उसकी हिसाब संबंधी योग्यता की तारीफ सुनकर एक प्रश्न किया कि 12 में से यदि 4 गए तो बाकी क्या बचेगा|

बीरबल ने तुरंत ही उत्तर दिया कि जहांपनाह यदि 12 में से 4 चले गए तो खाक बचेगा|

यह सुनकर बादशाह ने बीरबल से उन्हें समझाने को कहा कि कैसे?

बीरबल बोले:- ‘साल में 12 महीने होते हैं हुजूर, यदि उन 12 महीने में से 4 महीने वर्षा ऋतु के निकाल दिए जाएं तो खाक ही तो बचता है’|

बादशाह बीरबल के उत्तर से हंस पड़े|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
सबसे बड़ा कौन


एक दिन टहलते हुए बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा कि दुनिया में सबसे बड़ा कौन है? बीरबल समझ गया कि राज्य विस्तार के अहंकार में आकर ही बादशाह ने ऐसा प्रश्न किया है|

बीरबल ने जवाब दिया कि सबसे बड़ा छोटा बच्चा होता है| बादशाह को इस उत्तर से संतुष्ट नहीं हुई और बीरबल को पुनः सिद्ध करने की आज्ञा दी| बीरबल ने इस काम के लिए कुछ दिन का समय मांगा| बादशाह ने स्वीकार कर लिया|



अपने उत्तर को सिद्ध करने के लिए बीरबल ने अपने किसी मित्र के 2 साल के छोटे बच्चे को बादशाह के सामने खड़ा कर दिया| वह बच्चा बहुत सुंदर भी था इसलिए बादशाह ने उसको अपनी गोद में उठा लिया| बालक ने अपनी चंचलता के कारण बादशाह की दाढ़ी के बालों को खींचना शुरु कर दिया| बादशाह ने बीरबल से कहा कि इस बालक को क्यों लाए हो|



बीरबल ने बालक को बड़ा साबित करने का यही उपयुक्त समय समझा और बोले:- ‘दुनिया के और लोगों से आप चाहें कितने ही बड़े क्यों ना हो, लेकिन इस समय तो यह छोटा बच्चा भी आप से बड़ा है| ऐसा नहीं होता तो यह आपकी दाढ़ी खींचने का साहस कैसे करता| ऐसा करने की हिम्मत किसी और में नहीं है, जहांपनाह| इस बात को सुनकर बादशाह बहुत खुश हुए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
घुंघुचियो का महत्व


एक दिन बादशाह ने बीरबल से पूछा कि बीरबल तुम्हारे श्री कृष्ण भगवान घुंघुचियो की माला पहनते थे| क्या उनके पास हीरे-जवाहरात नहीं

थे? भगवान का अर्थ ऐश्वर्य कार होता है| पर मालूम होता है कि वह केवल नाम के ऐश्वर्या थे, जो ऐसी चीज गले में पहनते थे|

बीरबल ने कहा:- जहांपनाह, हमारे धर्म ग्रंथों में लिखा है कि जो चीज एक बार भी सोने से तोल दी जाती है, वह महान और पवित्र हो जाती है|

फिर घुंघुचिय, सैकड़ों बार सोने से तुलती है| अतः उन की पवित्रता का कहना ही क्या| इसी महान पवित्रता के कारण ही तो उन्हें भगवान की

माला में स्थान मिला है| बादशाह बीरबल के इस उत्तर को सुनकर लज्जित हो गए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
अंधकार


बादशाह के साथ बीरबल यमुना किनारे घूम रहे थे| रास्ते में उन्हें एक जरूरी बात ध्यान में आई और बोले:- बीरबल!- इस संसार में ऐसी कौन सी चीज है, जिसे हम सब देख सकते हैं लेकिन चंद्रमा की नजर उस पर नहीं पड़ती|

तब बीरबल बोले:- ‘जहांपनाह, वह चीज अंधकार है|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
सच और झूठ में अंतर


एक दिन बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा कि सच और झूठ में क्या अंतर होता है| बीरबल ने उत्तर दिया जहांपनाह, इन दोनों के बीच इतना ही अंतर है कि जितना आंख और कान में होता है|

बादशाह की समझ में यह जवाब नहीं आया तो उन्होंने बीरबल से पूछा ऐसा क्यों होता है?

बीरबल ने कहा:- ‘जहांपनाह, जो कुछ आंखों से देखा जाता है वह सच्चा होता है और जो कानों से सुना होता है वह कई बार झूठ होता है| बीरबल की यह जवाब सुनकर बादशाह संतुष्ट हो गए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
किसका अच्छा


एक दिन बादशाह अकबर के ध्यान में पांच प्रश्न आए, जिनको उन्होंने सभी दरबारियों से पूछा| बीरबल उस समय दरबार में मौजूद नहीं थे|
वे पांच प्रश्न इस प्रकार थे-

1. फल कौन सा अच्छा?
2. दूध किसका अच्छा?
3. मिठाई कौन सी अच्छी?
4. पत्ता कौन सा अच्छा?
5. राजा कौन अच्छा?

बादशाह के प्रश्नों को सुनकर दरबारियों में मतभेद पैदा हो गया| किसी ने गुलाब का फूल अच्छा बताया तो किसी ने कमल का फूल| इसी तरह दूध के लिए भी मतभेद हुआ| किसी ने गाय का दूध, किसी ने भैंस का व किसी ने बकरी का दूध श्रेष्ट बताया| मिठाई में किसी ने गन्ने को व किसी ने अन्य मिठाइयों को श्रेष्ट बताया|

पत्ते में किसी ने केले का पत्ता, किसी ने नीम आदि के पत्ते को गुणकारी बताकर अपनी योग्यता का परिचय दिया|

राजा कौन अच्छा मैं किसी चापलूस दरबारी ने कहा कि बादशाह अच्छे|
बस फिर क्या था, इस जवाब का सभी ने एक स्वर में समर्थन किया कि हमारे बादशाह सबसे अच्छे|

बादशाह को इन लोगों की स्वामी भक्ति पर प्रसन्नता तो जरूर हुई किंतु अपने प्रश्नों का सही उत्तर नहीं मिला| इसलिए उन्हें संतोष नहीं हुआ| बादशाह, बीरबल का इंतजार कर रहे थे क्योंकि वे जानते थे कि उनके इन प्रश्नों का सही उत्तर बीरबल ही दे सकते हैं|

बादशाह यह सोच ही रहे थे कि अचानक बीरबल दरबार में आ पहुंचे| बादशाह ने बीरबल से वह पांचों प्रश्न दोहराएं और उनका जवाब मांगा|

बीरबल ने कहां:

1. फूल कपास का अच्छा होता है जिससे सारी दुनिया का पर्दा बनता ,है क्योंकि उसी फूल से कपड़े बनते हैं|

2. दूध अपनी माता का सबसे अच्छा होता है क्योंकि इसी से शरीर बनता है|

3. मिठास, जिव्हा की वाणी में होती है|

4. पत्ता पान का अच्छा होता है, जो धार्मिक अनुष्ठानों में भी पूजनीय है|

5. राजाओं में इंद्र सर्वश्रेष्ठ है क्योंकि इन्हीं की आज्ञा से पानी बरसता है जिसके कारण संसार में कृषि का कार्य होता है और हमारा व प्रजा का

पालन पोषण होता है|

बादशाह और सभी दरबारी बीरबल के इन उत्तरों को सुनकर बहुत ही प्रसन्न हुए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
संगति का असर


बादशाह और बीरबल की आपस में बातें हो रही थी कि अचानक बीरबल के मुंह से कोई अपशब्द निकल गया| बादशाह को बड़ा बुरा महसूस हुआ और वह बोले:- ‘बीरबल क्या तुम्हें बोलने की तमीज नहीं रही| इन दिनों तुम बहुत बदतमीज होते जा रहे हो’|

बीरबल बोले:- ‘हां जहांपनाह, पहले तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता था, लेकिन क्या करूं यह सब संगति का असर है| बादशाह यह बात सुनकर निरुत्तर हो गए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
थोड़ी बहुत बातें


एक दिन बीरबल के साथ उनकी लड़की जिसकी आयु 5 वर्ष की थी बादशाह का दरबार देखने आई|

बादशाह लड़की को देखकर बहुत खुश हुए और हंसकर उन्होंने लड़की से पूछा:- क्या तुम बातें करना जानती हो?

लड़की ने उत्तर दिया कि थोड़ी बहुत बातें कर लेती हूं| बादशाह लड़की कि इस बात से खुश तो हुए लेकिन उन्होंने लड़की से पूछा बेटा थोड़ी-बहुत का क्या मतलब है|

लड़की ने बादशाह की ओर एक दफा देखकर गर्दन नीची कर ली, लेकिन अपने पास ही बैठे छोटे बच्चे को गोद में लेकर प्यार करने लगी| बादशाह ने बीरबल से कहा कि क्या यह वही लड़की है जिसके तुम इतनी प्रशंसा किया करते थे|

बीरबल समझ गए कि लड़की का संकेत बादशाह की समझ में नहीं आया| तब उन्होंने समझाते हुए कहा कि जहांपनाह, उस बच्ची ने तो आपके प्रश्न का उत्तर दे भी दिया, लेकिन आपको समझ नहीं आया|

बादशाह बोले :- उस लड़की ने उत्तर कहां दिया|
बीरबल ने कहा कि लड़की ने पहले आप की ओर देखा फिर गर्दन नीची कर ली| इसका मतलब है कि आप मुझसे बहुत बड़े हैं तो आपसे मैं थोड़ी ही बातें करूंगी|

लड़की ने जो छोटे बच्चे को गोद में लेकर प्यार किया| उसका मतलब यह था कि जो मुझसे छोटे हैं, मैं उनसे बहुत सी बातें करूंगी| यही थोड़ी-बहुत का मतलब है|

बादशाह लड़की के इस उत्तर से बहुत खुश हुए तथा साथ ही लड़की की बुद्धिमत्ता की प्रशंसा भी की|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
सबसे उज्जवल क्या?


एक दिन बादशाह ने सभी दरबारियों से एक प्रश्न पूछा कि सबसे उज्जवल क्या होता है?
सभी दरबारियों ने किसी ने कपास तो किसी ने दूध बताया| बीरबल को चुप देखकर बादशाह बोले:- ‘बीरबल, आपकी क्या राय है’?

बीरबल ने उत्तर दिया:- ‘जहांपनाह, मेरी समझ से तो सबसे उज्जवल दिन होता है’| बादशाह बोले:- ‘तुम्हें इस बात को साबित करना पड़ेगा’| बीरबल ने यह स्वीकार कर लिया| अगले दिन दोपहर में जब बादशाह विश्राम कर रहे थे|



तब बीरबल ने एक कटोरा दूध तथा 2-4 कपास के फूल ले जाकर दरवाजे के पास रख कर दरवाजे चारों तरफ से बंद कर दिए|
प्रकाश बिल्कुल नहीं आ रहा था| बादशाह जब उठे तो सीधे दरवाजे की तरफ बढ़ने लगे|

अंधेरा होने की वजह से सारा दूध गिर गया| दरवाजा खुलने से प्रकाश हुआ तो बादशाह ने दूध का कटोरा तथा कपास को बिखरा हुआ पाया| बाहर निकलते ही बादशाह ने बीरबल को बैठे हुए देखा और मन ही मन सोचा कि यह जरूर बीरबल की ही कारस्तानी है|

बादशाह ने बीरबल को दरबार में बुलाया और इस गुस्ताखी की वजह पूछी| बादशाह के पूछने पर बीरबल ने उत्तर दिया कि जहांपनाह, कल के दरबार में सबसे उज्ज्वल पर लोगों ने अपनी अपनी राय दी थी| सभी ने दूध और कपास को मुख्य रुप से बताया था| मैंने दिन को सबसे उज्जवल बताया था|

मैंने दूध और कपास इसलिए रास्ते में रख दिए थे, क्योंकि यह चीजें उज्ज्वल है तो जरूर दिखाई देंगी| किंतु ऐसा हो ना सका| इसलिए अब तो आपको मानना पड़ेगा कि दिन भी सबसे उज्जवल होता है, क्योंकि दरवाजा खोलते ही प्रकाश हुआ| जिससे आप सब चीजों को देख पाए| बादशाह, बीरबल की बुद्धिमानी पर दंग रह गए|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
 बादशाह की मूंछ


अकबर को अपने दरबारियों और खुद को खुश करने के लिए कई तरह के रोचक प्रश्न पूछने का एक अजीब शौक था।

एक दिन, अकबर, शाही दरबार में अपनी शाही कुर्सी पर आराम से बैठे थे| अचानक उनके मन में एक विचित्र सवाल आया और उन्होंने अपने दरबारियों से पूछा, ” मेरी मूंछो को खींचने वाले व्यक्ति को क्या दंड दिया जाना चाहिए?” मंत्री ने कहा, जहांपनाह” ऐसे दुष्ट व्यक्ति का सर कलम कर देना चाहिए!”

खजांची ने कहा, “उसे कारागार में डाल देना चाहिए!”

सेना के प्रमुख ने कहा, “उसे फांसी दी जानी चाहिए!”

दरबार में उपस्थित सभी लोगों ने अपराधी के लिए एक से बढ़कर एक कठोर दंड के सुझाव दिए।

बादशाह ने यही सवाल बीरबल से पूछा, “आप क्या सोचते हैं, बीरबल?”

बीरबल एक पल के लिए चुप रहे, और फिर कहा, “हुजूर, उसे मिठाई दी जानी चाहिए!”

“क्या बकते हो, बीरबल? क्या तुम जानते हो कि तुम क्या कह रहे हो? ”

बीरबल ने विनम्रता से जवाब दिया, हुजूर, “मैं पागल नहीं हूँ, ! और मुझे पता है कि मैं क्या कह रहा हूँ! ”

अकबर ने क्रोध में पूछा, ” फिर तुम ऐसा सुझाव कैसे दे सकते हो कि जो व्यक्ति मेरी मूछों को खींचता है मुझे उसे दंडित करने की बजाय उसको इनाम देना चाहिए” बीरबल ने फिर से विनम्रता से जवाब दिया, “क्योंकि, हुजूर, ऐसी गुस्ताखी आप के पोते के अलावा कोई नहीं कर सकता है।”अकबर, बीरबल के इस जवाब से बहुत खुश हुए और अपनी अंगूठी उतारकर बीरबल को इनाम के रूप में दे दी।



Akbar Birbal ki Kahaniya 
बकरे का दूध


एक बार बादशाह ने बीरबल से कहा कि बीरबल हमारी बेगम को कुछ दिन से सिर में दर्द रहता है| किसी ओझा ने इसकी दवा बनाने के लिए

बकरे का दूध मांगा है| इसलिए कहीं से भी जाकर बकरे का दूध लेकर आओ|

बीरबल समझ गया कि ओझा ने बादशाह को मूर्ख बनाया है| घर जाकर बीरबल ने अपनी लड़की को समझाया और वह तुरंत ही रात्रि के समय

बादशाह के महल के पास नदी में कपड़े धोने लगी| बादशाह ने उस लड़की को देखकर कहा:- अरे! तुम तो बीरबल की लड़की हो|

तुम इतनी रात को यहां क्या कर रही हो?

लड़की ने कहा:- जी हजूर, मैं बीरबल की लड़की हूं| अभी शाम को ही बीरबल के पेट से बच्चा पैदा हुआ है और मैं उन्हीं के कपड़े धो रही हूं|

बादशाह ने कहा:- लड़की क्या तू पागल हो गई है? कहीं मर्द के पेट से भी बच्चा होता है|

लड़की ने कहा:- तो हजूर कहीं बकरा भी दूध देता है|

लड़की की यह बात सुनते ही बादशाह समझ गए और उसे इनाम देकर विदा किया|

Akbar Birbal Kahani 
चालाक औरत


एक बार एक औरत किसी आदमी से झगड़ती हुई और रोती हुई बादशाह के सामने आकर कहने लगी कि इस आदमी ने मेरा सारा जेवर छीन

लिया है| बादशाह ने इस केस की जांच बीरबल को सौंप दी| बीरबल ने दोनों को अपने पास बुलाया और पहले उस औरत से पूछा:- क्या

शिकायत है तुम्हारी? हुजूर इस आदमी ने मुझे पकड़ा, पीटा और मेरा सारा जेवर छीन लिया| बीरबल ने उस आदमी की तरफ देखा| फिर उस

आदमी से पूछा, क्या तुमने इस औरत के जेवर छीने हैं?

नहीं सरकार, यह औरत एकदम झूठी है| मैंने इसके जेवर नहीं छीने हैं| बीरबल ने गुस्से में कहा:- तुम झूठ बोल रहे हो| तुमने ही इस महिला

के जेवर छीने है| ‘जी नहीं हुजूर’ मैं सच बोल रहा हूं| बीरबल ने फिर पूछा:- ‘सच सच बता दो’|

मैं सच कहता हूं, हुजूर, मैंने इसके जेवर नहीं छीने है| बीरबल ने औरत से पूछा:- ‘कितने मूल्य का जेवर था तुम्हारा’|

हुजूर कम से कम 500 रुपए का है| बीरबल ने कहा:- चलो कोई बात नहीं यह आदमी तुम्हें 500 रुपए दे देगा| बीरबल ने उस आदमी को

धमकाते हुए कहा:- इस महिला को 500 रुपए दे दो| उस आदमी ने घबराकर उस औरत को 500 रुपए दे दिए|

वह औरत 500 रुपए लेकर चल पड़ी| वह बहुत खुश थी| जब वह चली गई तो बीरबल ने उस आदमी से कहा:- ‘उस औरत के पीछे पीछे जाओ

और 500 रुपए छीन कर ले आओ’|

वह आदमी बीरबल का मुंह देखने लगा| बीरबल ने कहा:- ‘देखते क्या हो, जाओ छीन लाओ’| यह सुनकर वह आदमी चला गया| थोड़ी देर बाद

ही वह औरत उस आदमी को खींचते हुए लेकर आई और रोते हुए बताना शुरू किया|

यह फिर से मेरे पैसे छीन रहा था|छीन तो नहीं लिए? बीरबल ने पूछा| नहीं हुजूर, यह छीन नहीं सका, लेकिन इसने छीनने की बहुत कोशिश

की| मैं इसे पकड़कर आपके सामने लाई हूं| इसे सजा दीजिए| सजा तो जरूर देंगे लेकिन इसे नहीं, सजा तुम्हें मिलेगी| वह औरत घबरा गई|

बीरबल ने कहा:- इस व्यक्ति ने तुम्हारे जेवर नहीं छीने हैं| तुम झूठ बोल रही हो| जो आदमी तुमसे 500 रुपए नहीं छीन सकता है, भला वह

तुम्हारे शरीर से तुम्हारे जेवर कैसे उतरवा सकता है| तुम्हें इस झूठ की सजा जरूर मिलेगी| पहले इस आदमी को उसके 500 रुपए वापस दे दो

और 500 रुपए जुर्माने के भी देने पड़ेंगे| वह औरत रोने लगी और बीरबल के पैरों में गिर गई| ‘मुझे माफ कर दीजिए हजूर’| बीरबल को दया

आ गई और उसने उस औरत से 500 रुपए लेकर उस व्यक्ति को दे दिए और उस औरत को शर्मिंदा करके छोड़ दिया|

Akbar Birbal Stories in Hindi 
हर वक्त कौन चलता है


एक दिन बादशाह ने दरबारियों से पूछा कि हर समय कौन चलता है?

उत्तर में किसी ने सूर्य, किसी ने पृथ्वी तथा किसी ने चंद्रमा आदि को बताया| बादशाह ने यही प्रश्न बीरबल से पूछा, तो बीरबल ने उत्तर

दिया:- ‘जहांपनाह! महाजन का ब्याज हर समय चलता है| इसे कभी भी थकावट महसूस नहीं होती| यह दिन दुगना और रात चौगुना वेग से

चलता रहता है’| बादशाह को बीरबल का यह उत्तर पसंद आया|

Post a Comment

0 Comments