header ads

TOP FUNNY SHAYARI

Best Funny Shayari HINDI Status

 एक फूल तुझे देने के लिए सस्ते में ले लिया 

देखे ना  कोई इसलिए बस्ते में ले लिया 

फूल तुझे देने को निकले थे जाने मन 

पर बजरंग दल वालों ने उसे रस्ते में ले लिया 

funny shayari


किसी का हाथ थाम के छोड़ना नहीं,

वादा किसी से कर के तोड़ना नहीं,

कोई अगर तोड़ दे दिल आपका तो,

बिना हाथ पैर तोड़े उसे छोड़ना नहीं।


 

मजनू लँगड़ा हो गया...

लैला की शादी में एक लफड़ा हो गया,

मजनू इतना नाचा कि लँगड़ा हो गया।


-------------------------------------


न तू छत पे आती न मैं दीवाना होता,

न तू पत्थर मारती न मैं काना होता।


-------------------------------------


जिनको हम चुनते हैं, वो ही हमें धुनते हैं,

चाहे बीवी हो या नेता, दोनों कहाँ सुनते हैं!!


-------------------------------------


यारो मेरे मरने के बाद आँसू मत बहाना,

ज़्यादा याद आए तो उपर ही चले आना।



 

झंडू बाम दे गई...

मेरे प्यार को बेवफाई का इनाम दे गई,

मेरे दिल को अपनी यादों का पैगाम दे गई,

मैंने कहा मेरे दिल में दर्द है तेरे बिना,

तो वो जाते-जाते "झंडूबाम" दे गई।




 

जिनके घर शीशे के...

जिनके घर शीशे के होते हैं... वो तो...

कहीं पर भी बैठ कर दाढ़ी बना लेते हैं।



 

अपने पास भी पैसा होता...

मैं और मेरी तन्हाई...

अक्सर ये बातें करते हैं,

तुम होती तो ऐसा होता...

तुम होती तो वैसा होता...

और अगर तुम न होती तो...


नींद आती है तो एक ख्वाब आता है,

ख्वाब में इक लड़की आती है,

और पीछे उसका बाप आता है,

फिर क्या...

फिर न नींद आती है न ख्वाब आता है।



 

ग़म क्या चीज है?...

तुम्हें क्या पता गम क्या होता है,

तुम्हें क्या पता गम किसे कहते हैं,

तुम्हें क्या पता गम क्या चीज है,

क्यूंकि...

तुमने तो हमेशा थूक से चिपकाया है!



 

कभी मुर्गा तो कभी बत्तख...

कभी मुर्गा तो कभी बत्तख बना देता है,

पता नहीं ये मास्टर मुझसे किस बात का बदला लेता है।



 

रश्के-क़मर होता...

काश हमारा भी कोई रश्के-क़मर होता,

हम भी नजर मिलाते हमें भी मज़ा आता।




 

रायता बनता गया...

हम तनहा ही चले थे ज़िंदगी का दही जमाने,

बूंदियां मिलती गयीं... रायता बनता गया।


मारा था बाप ने...

इश्क में हम तुम्हें क्या बताएं

किस कदर चोट खाए हुए हैं,

मारा था बाप ने कल उसके,

आज भाई आये हुए हैं।


cute sweet boy



 

सूरज को फोड़ दूंगा...

चाँद को तोड़ दूंगा... सूरज को फोड़ दूंगा...

तू एक बार हाँ कर दे पहले वाली को छोड़ दूंगा।


 

फूल बकरी खा गई...

अर्ज़ किया है...

कि बहार आने से पहले खिज़ां आ गई,

और फूल खिलने से पहले बकरी खा गई।


 

पढ़ाई कर लो बेटा...

प्यार मोहब्बत तो सब धोखा है,

पढ़ाई कर लो बेटा अभी मौका है।


-------------------------------------


न वक्त इतना है कि सिलेबस पूरा किया जाए,

न तरकीब कोई कि एग्जाम पास किया जाए,

न जाने कौन सा दर्द दिया है इस पढ़ाई ने,

न रोया जाए और न सोया जाए।


 

चाँदनी रात में...

चाँदनी रात में नज़र तो सबकुछ आता है ग़ालिब,

बस मट्टी और टट्टी में फ़र्क नज़र नहीं आता।


** रात को खेत में बैठ कर लिखा शेर **


ये जो हसीनों के लंबे लंबे बाल होते हैं,

बस लड़कों को फंसाने का जाल होते हैं,

ना जाने कितनों का खून पिया होगा इन्होने,

इसलिए तो इनके होंठ लाल होते हैं।



 

बारिश को भी कब्ज़...

लगता है बारिश को भी कब्ज़ हो गयी है।

मौसम तो बनता है पर आती नहीं।



 

खींचकर मारे जाओगे...

मरना हैं तो मरो अपने वतन के लिये,

क्यों मरतें हो एक दुल्हन के लिये,

इश्क के गलियों में खींचकर मारे जाओगे,

कोई चन्दा भी ना देगा कफन के लिये।



 

कंगाल हो गए...

नज़रें मिली तो बेख्याल हो गए,

नज़रें झुकी तो सवाल हो गए,

और इतना घुमाया उसे प्यार में,

शॉपिंग कराते कराते कंगाल हो गए!



 

बाप की मार से...

ना तलवार की धार से ना गोलियों की बौछार से,

बंदा डरता है तो सिर्फ अपने बाप की मार से।


आँखो से आँखे मिलाकर तो देखो,

एक बार हमारे पास आकर तो देखो,

मिलना चाहेंगे सब लोग तुमसे,

एक बार मेरे दोस्त साबुन से नहाकर तो देखो।




 

ऐसी अपनी वाईफ हो...

ऐसी अपनी वाईफ हो,

जींस जिसकी टाईट हो,

चेहरा जिसका व्हाईट हो,

बालों में स्टाईल हो,

होंठों पर स्माइल हो,

इंडिया कि पैदाईश हो,

सास की सेवा जिसकी ख्वाहिश हो,

ऐसी अपनी वाईफ हो,

तो क्या हसीन लाईफ हो।




नहाकर चल दिए...

हम ने तुम्हारी याद में रो-रो के टब भर दिए,

तुम इतने बेवफा निकले कि नहाकर चल दिए।




 

मोहब्बत के खर्चे...

मोहब्बत के खर्चों की बड़ी लंबी कहानी है,

कभी फिल्म दिखानी है तो कभी शॉपिंग करानी है,

मास्टर रोज कहता है कहाँ हैं फीस के पैसे?

उसे कैसे समझाऊँ कि मुझे छोरी पटानी है!


 

उधार ले-ले कर खाया...

इस कदर उधार ले-ले कर खाया है हमने...

कि दुकानदार भी हमारी ज़िन्दगी की दुआ करते हैं!


हसीना से मिलें नजरें अट्रैक्शन हो भी सकता है,

चढ़े फीवर मोहब्बत का तो एक्शन हो भी सकता है,

हसीनों को मुसीबत तुम समझ कर दूर ही रहना,

ये अंग्रेजी दवाएं हैं रिएक्शन हो भी सकता है।



 

आपका घर इतना दूर...

चिरागों में इतना नूर ना होता,

तो तनहा दिल मजबूर ना होता,

हम आपसे मिलने जरूर आते,

अगर आपका घर इतना दूर ना होता।


 

न रेनकोट ना छाता...

ये बारिश का मौसम बहुत तड़पाता है,

वो बस मुझे ही दिल से चाहता है,

लेकिन वो मिलने आए भी तो कैसे...?

उसके पास न रेनकोट है और ना छाता है।



 

ताज महल क्या चीज...

ताज महल क्या चीज है...

हम इससे भी अच्छी इमारत बनवा देंगे,

शाहजहां ने मुमताज़ को मुर्दा दफनाया था,

हम तुझे ज़िंदा ही दफना देंगे।


 

फनी शायरी प्यार का रास्ता...

कहते हैं कि प्यार की राहों पे चलना आसान नहीं,

मैंने भी कल चल के देखा मुझे ताे रास्ता ठीक ही लगा।


ऐ दोस्त व्हिस्की को कफ़न में बांध ला,

कब्र में बैठ कर पिया करेंगे,

इन लड़कियो से मिला है धोखा

चुड़ैलों से सेटिंग किया करेंगे।



 

लड़की की अदा...

मुस्कुराना तो हर लड़की की अदा है

जो इसे प्यार समझे वो सबसे बड़ा गधा है।


 

न्यूटन संग याद तुम्हारी ...

अंधकार के घोर तिमिर में हॅसने के बाद रुलाती है,

तन्हाई और गम है साथ ये जिंदगी भी तड़पाती है,

मेरी हालत भी मुझसे जलती और रूठ जाती है,

जब आइंस्टीन और न्यूटन संग याद तुम्हारी आती है।


 

पहले हम लोटा थे...

एक बेवफा की याद में हम कुछ ख़ास हो गए,

पहले हम लोटा थे पर अब गिलास हो गए।


 

नखरे आपके तौबा-तौबा...

नखरे आपके तौबा-तौबा

गजब आपका स्टाईल है,

मैसेज तो आप कभी करते नहीं,

बस हल्ला मचा रखा है कि

हमारे पास भी मोबाईल है।


रहता है इबादत में हमें मौत का खटका,

हम याद ख़ुदा करते हैं कर ले न ख़ुदा याद।


 

उनके बच्चे ही कम्बख्त...

वो आज भी हमें देख कर मुस्कुराते हैं,

वो आज भी हमें देख कर मुस्कुराते हैं,

ये तो उनके बच्चे ही कम्बख्त हैं,

जो हमें मामा-मामा बुलाते है।



 

दिल दो किसी एक...

दिल दो किसी एक को,

वो भी किसी नेक को,

जब तक मिल ना जाए कोई,

ट्राई करते रहो हर एक को।


 

सींग और पूंछ की कमी...

तारीफ के काबिल हम कहाँ,

चर्चा तो आपकी चलती है,

सब कुछ तो है आपके पास,

बस सींग और पूंछ की कमी खलती है।


आसमान जितना नीला है,

सूरजमुखी जितना पिला है,

पानी जितना गीला है,

आपका स्क्रू उतना ही ढीला है।



 

हिचकियों में फर्क...

ऐ खुदा... हिचकियों में कुछ तो फर्क डाला होता...

अब कैसे पता करूँ कि कौनसी वाली याद कर रही है.


 

उम्र की राह में...

उम्र की राह में जज्बात बदल जाते है,

वक़्त की आंधी में हालात बदल जाते है,

सोचता हूं काम कर-कर के रिकॉर्ड तोड़ दूं,

कमबख्त सैलेरी देख के ख्यालात बदल जाते हैं।



 

दुश्मनी की इन्तहा...

इससे ज्यादा दुश्मनी की

इन्तहा क्या होगी ग़ालिब

टोयलेट की टंकी में कोई

बर्फ डाल गया।



 

फनी शायरी प्रेत बन लटक जायेंगे...

तुम्हारा साया बन कर ताउम्र साथ निभायेंगे,

हर एक कदम तुम्हारी राहों को फूलों से सजायेंगे,

अगर मौत ने जुदा कर भी दिया हमें तुमसे,

तो तुम्हारी खिड़की के सामने वाले पेड़ पर,

प्रेत बन कर उलटे लटक जायेंगे।


जुल्फों में फूलों को सजा के आयी,

चेहरे से दुपट्टा उठा के आयी,

किसी ने पूछा आज बड़ी खुबसूरत लग रही है,

हमने कहा शायद आज नहा के आयी।


 

फनी शायरी ताजमहल बनाएंगे...

हम भी जान-ए-मन तेरे लिए ताजमहल बनायेंगे,

अर्ज़ किया है,

हम भी जान-ए-मन तेरे लिए ताजमहल बनायेंगे,

एक कप सुबह पिलायेंगे और एक कप शाम को पिलायेंगे।


 

फनी शायरी उस की ‪गली‬ से ...

उस की ‪गली‬ से गुजरे तो उसकी ‪रँगोली‬ भी देख आए,

‪‎गजब‬ की बनाती है...

हमें तो लगा था बस ‪‎मुँह‬ बनाना आता होगा।



 

आशिक पागल हो जाते...

आशिक पागल हो जाते हैं प्यार में,

बाकी कसर पूरी हो जाती है इंतज़ार में,

मगर ये दिलरुबा नहीं समझती,

वो तो गोल गप्पे और पपड़ी

खाती फिरती है बाज़ार में ।



एक दिन पति ने पत्नी को शराब चखाई। 

पत्नी: यह तो बहुत कड़वी है। 

पति: ...तो तुम क्या समझती थी कि मैं अय्याशी करता हूं। जहर के घूंट पीता हूं, जहर के। 

----

वकील: तुम्हारे पति की मौत कैसे हुई?

महिला: जहर खाने से। 

वकील: ...फिर ये चोट के निशान कैसे हैं? 

महिला: पीने से मना कर रहे थे। 



मोहब्बत का दिखावा न कर...

हमसे मोहब्बत का दिखावा न किया कर,

हमे मालुम है तेरे वफा की डिगरी फर्जी है ।


तेरा प्यार भी हजार की नोट जैसा है,

डर लगता है कहीं नकली तो नहीं ।


 

रोया है फ़ुर्सत से...

रोया है फ़ुर्सत से कोई मेरी तरह सारी रात यकीनन,

वर्ना रुख़सत-ए- मार्च में यहाँ बरसात नहीं होती...।


Post a Comment

0 Comments