header ads

TOP Best मस्त शायरी evergreen shayari status all time

Top Best Evergreen shayari status all time


 अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो, जान थोड़ी है 

ये सब धुआँ है कोई आसमान थोड़ी है 


लगेगी आग तो आएँगे घर कई ज़द में 

यहाँ पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है 


मैं जानता हूँ के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन 

हमारी तरहा हथेली पे जान थोड़ी है 


हमारे मुँह से जो निकले वही सदाक़त है 

हमारे मुँह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है 


जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे

किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है 


सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में 

किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है


TOP Best evergreen shayari status all time


फलसफा समझो न असरारे सियासत समझो,

जिन्दगी सिर्फ हकीक़त है हकीक़त समझो,

जाने किस दिन हो हवायें भी नीलाम यहाँ,

आज तो साँस भी लेते हो ग़नीमत समझो।


जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,

मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,

काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,

फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।


अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,

फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,

ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,

अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

TOP Best evergreen shayari status all time


कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,

चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,

माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास,

पर तू ये बता कितनी रातें चैन से सोया है।


हमारा ज़िक्र भी अब जुर्म हो गया है वहाँ,

दिनों की बात है महफ़िल की आबरू हम थे,

ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर,

जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे।


जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,

जरुरी तो नहीं हम जिनके हैं वो हमारा हो,

कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती हैं,

जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

TOP Best evergreen shayari status all time


खामोशी से बिखरना आ गया है,

हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,

किसी को बेवफा कहते नहीं हम,

हमें भी अब बदलना आ गया है,

किसी की याद में रोते नहीं हम,

हमें चुपचाप जलना आ गया है,

गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,

हमें कांटों पे चलना आ गया है।


वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,

छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,

कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,

पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।



एक चेहरा जो मेरे ख्वाब सजा देता है,

मुझ को मेरे ही ख्यालों में सदा देता है।


वो मेरा कौन है मालूम नहीं है लेकिन,

जब भी मिलता है तो पहलू में जगा देता है।

TOP Best evergreen shayari status all time


मैं खिल नहीं सका कि मुझे नम नहीं मिला,

साक़ी मिरे मिज़ाज का मौसम नहीं मिला।


मुझ में बसी हुई थी किसी और की महक,

दिल बुझ गया कि रात वो बरहम नहीं मिला।


नज़र में ज़ख़्म-ए-तबस्सुम छुपा छुपा के मिला,

खफा तो था वो मगर मुझ से मुस्कुरा के मिला।


वो हमसफ़र कि मेरे तंज़ पे हंसा था बहुत,

सितम ज़रीफ़ मुझे आइना दिखा के मिला।


जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है,

उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।

TOP Best evergreen shayari status all time


सारी गलती हम अपनी किस्मत की कैसे निकल दें,

कुछ साथ हमारा तेरी अमीरी ने भी तोडा है।


दिल की दहलीज पर यादों के दिए रखें हैं,

आज तक हम ने ये दरवाजे खुले रखे हैं।


दिन की रोशनी ख्वाबों को सजाने में गुजर गई,

रात की नींद बच्चे को सुलाने मे गुजर गई,

जिस घर मे मेरे नाम की तखती भी नहीं,

सारी उमर उस घर को बनाने में गुजर गई।


तेरी चाहत में रुसवा यूँ सरे बाज़ार हो गये,

हमने ही दिल खोया और हम ही गुनहगार हो गये।


फूल इसलिये अच्छे कि खुश्बू का पैगाम देते हैं,

कांटे इसलिये अच्छे कि दामन थाम लेते हैं,

दोस्त इसलिये अच्छे कि वो मुझ पर जान देते हैं,

और दुश्मनों को मैं कैसे खराब कह दूं...

वो ही तो हैं जो महफिल में मेरा नाम लेते हैं।

TOP Best evergreen shayari status all time


अगर टूटे किसी का दिल तो शब भर आँख रोती है,

ये दुनिया है गुलों की जिस्म में काँटे पिरोती है,

हम मिलते हैं अपने गाँव में दुश्मन से भी इठलाकर,

तुम्हारा शहर देखा तो बड़ी तकलीफ होती है।


वही रखेगा मेरे घर को बलाओं से महफूज,

जो शजर से घोसला गिरने नहीं देता।


हवा खिलाफ थी लेकिन चिराग भी खूब जला,

खुदा भी अपने होने का क्या क्या सबूत देता है।


क्या गिला करें तेरी मजबूरियों का हम,

तू भी इंसान है कोई खुदा तो नहीं,

मेरा वक़्त जो होता मेरे मुनासिब,

मजबूरिओं को बेच कर तेरा दिल खरीद लेता।


मुझ में ख़ुशबू बसी उसी की है,

जैसे ये ज़िंदगी उसी की है।


वो कहीं आस-पास है मौजूद,

हू-ब-हू ये हँसी उसी की है।


ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी,

धूप ऐसी थी के साए को भी जलते देखा।


इतनी चाहत के बाद भी तुझे एहसास ना हुआ,

जरा देख तो ले दिल की जगह पत्थर तो नहीं।


कितने परवाने जले राज़ ये पाने के लिए,

शमां जलने के लिए हैं या जलाने के लिए।


किसी को प्यार का मतलब बस इतना सा समझाना,

शमा के पास जाकर के परवाने का जल जाना।


झूठ बोलते थे फिर भी कितने सच्चे थे हम,

ये उन दिनों की बात है जब बच्चे थे हम।


सुकून की बात मत कर ऐ दोस्त,

बचपन वाला इतवार अब नहीं आता।


जब मुझसे मोहब्बत ही नहीं तो रोकते क्यूँ हो?

तन्हाई में मेरे बारे में सोचते क्यूँ हो?

जब मंजिलें ही जुदा हैं तो जाने दो मुझे...

लौट के कब आओगे ये पूछते क्यूँ हो?

Post a Comment

0 Comments