header ads

2021 LATEST VIRAL SHAYARI STATUS KAVI SAMMELAN

VIRAL SHAYARI STATUS KAVI SAMMELAN

 बहुत सेलफ़ियाँ लेते हो जरा मुस्कराया करों 

अपने चेहरे को कभी आईना भी दिखाया करों 

ये जमाने के तजुर्बे तुम्हें गूगल पर नहीं मिलेंगे 

मिले जो वक्त तो माँ  बाप के पास बैठ जाया करों 

VIRAL SHAYARI STATUS KAVI SAMMELAN


किसी की याद ना आये  खयाल बट जाए 

दुआ करों ये कयामत सी रात कट जाए 

हम आईना हैं दिखाएंगे दाग चेहरों के 

जिन्हे खराब लगे वो सामने से हट जाए 


कर्जमाफ़ी के बहाने सत्ता पा गए सयाने 

उनकी जुबान अभी से फिसल रही है 

कैसे काम करना था और कर रहें हैं कैसे 

कर्जमाफ़ी में तो मनमानी चल रही है 

ऊंट के मुह में फसाके  जीरा चुपके से 

कर्जमाफ़ी  में तो मनमानी चल रही है 

रो रहा है ये किसान कह रहा है सरे आम 

देश में ही देशभक्त की कमी खल रही है 


ये खिलौने कहीं  बाढ़ ना बन जाए बांध का प्रबंध कीजिए

जितना पानी चाहिए  उतना निकालिए फिर नल बंद कीजिए 


है जलती  आग सीने में नहीं डरता शिकंदर से 
मगर हूँ बाप बेटी का डरा रहता हूँ अंदर से 


वो दिखती हंसनी सी हैं वो कोयल जैसा गाती है 

उजाला चहुं ओर होता है वो जब भी मुसकुराती है 

वो चम्पा है चमेली है वो खुसबू रात रानी सी 

है छोटी उम्र पर बात करती सयानी सी 

वो विध्या में विजयी होती लड़े किस भी धुरंधर  से 

मगर हु बाप बेटी का डरा  रहता हूँ अंदर से 


हवाये आज कल घोले जहर चहू ओर चलती हैं 

नशे मन खाक करने को बहुत बिजली मचलती है 


नहीं बादल में वो अमृत बस अब ऐसिड बरसता है 

गली में भौकते कुत्ते सड़क पर सांप डसता है 

सहर और गाँव के रावण है दिखते सब कलंदर से 


समझते खुद को सागर सा जो नाले हैं ये बरसाती 

इन्ही में गंदगी करते दरोगा और नेताजी 


जो रक्षक है गौरेया के जलाकर आग बैठे हैं 

सभी धर्मों के ठेकेदार फतवे देके ऐठे हैं 


बया कितने बनाए घोंसले भय लगता बंदर से 

मगर हूँ बाप बेटी का डरा रहता हूँ अंदर से 


अगर माटी के पुतले देह में ईमान जींदा है 

तभी इस देश की सम्रधि का अरमान जींदा है 

न भाषण से हैं उम्मीदे न वादों पर भरोसा है 

शहीदों  की बदौलत मेरा हिंदुस्तान जींदा है 


Post a Comment

0 Comments