header ads

Ganv (village) purani yaade shayari status pic

Village Shayari in Hindi | Village Status in Hindi | Village Quotes in Hindi 


 वक़्त का ये परिंदा रुका है कहा

मे था पागल जो इसको बुलाता रहा

चार पैसे कमाने में आया शहर

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा


वक़्त का ये परिंदा रुका है कहा

मे था पागल जो इसको बुलाता रहा

चार पैसे कमाने में आया शहर

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

वक़्त का ये परिंदा रुका है कहा


लौटता था में जब पाठशाला से घर

अपने हाथों से खाना खिलाती थी माँ

रात में अपनी ममता के अंचल तले

थपकिया देके मुझको सुलाती थी माँ


सोच के दिल में एक टिस उठती रही

रात भर दर्द मुझको जगाता रहा

चार पैसे कमाने में आया शहर

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

वक़्त का ये परिंदा रुका है कहा


सबकी आँखों में आंसू छलक आये थे

जब रवाना हुआ शहर के लिए

कुछ ने मांगी दुवाएँ की में खुश रहू

कुछ ने मंदिर में जाकर जलाए दिए


एक दिन में बनूँगा बड़ा आदमी

ये तसव्वुर उन्हें गुदगुदाता रहा

चार पैसे कमाने में आया शहर

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

वक़्त का ये परिंदा रुका है कहा


माँ ये लिखती है हर बार ख़त में मुझे

लौट आ मेरे बेटे तुझे है कसम

तू गया जबसे परदेश बेचैन हूं

नींद आती नहीं भूक लगती है काम


कितना चाह ना रोऊ मगर क्या करू

ख़त मेरी माँ का मुझको रुलाता रहा

चार पैसे कमाने में आया शहर

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा


वक़्त का ये परिंदा रुका है कहा

मे था पागल जो इसको बुलाता रहा

चार पैसे कमाने में आया शहर

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

गाँव मेरा मुझे याद आता रहा

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


मेरे गांव जितना सुंदर कोई गांव न होगा

कोई नहीं है इसका मोल कोई भाव न होगा


सुघर सलोने बच्चे सारे करते हैं अटखेलियां

जहां सुनाते अक्सर बूढ़े, कहानी और पहेलियां



ताल तलैया बाग बगीचे, पोखर खेत खलिहान हैं

कहीं सुनाता मंत्र और घंटी, और कहीं अजान है


शहद से मीठी बोली सबकी, कहीं ऐसा स्वभाव न होगा

मेरे गांव जितना सुंदर कोई गांव न होगा


मिलना जुलना प्यार से रहना, ही इसकी पहचान है

दूर्गापूजा, दंगल, मेला, रामलीला ही शान है


कालेज बैंक बाजार है सब कुछ, विकसित गांव है मेरा

सभी जातियां रहती हिलमिल, ना तेरा ना मेरा


Village PIC HEART TOUCHING INDIA


 

नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांव

हुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव

-निदा फ़ाज़ली


मां ने अपने दर्द भरे खत में लिखा 

सड़कें पक्की हैं अब तो गांव आया कर

- अज्ञात 

 

ख़ोल चेहरों पे चढ़ाने नहीं आते


ख़ोल चेहरों पे चढ़ाने नहीं आते हमको

गांव के लोग हैं हम शहर में कम आते हैं

-बेदिल हैदरी


जो मेरे गांव के खेतों में भूख उगने लगी

मेरे किसानों ने शहरों में नौकरी कर ली

-आरिफ़ शफ़ीक़


सुना है उसने खरीद लिया है करोड़ों का घर शहर में 

मगर आंगन दिखाने आज भी वो बच्चों को गांव लाता है 

-अज्ञात


शहर की इस भीड़ में चल तो रहा हूं

ज़ेहन में पर गांव का नक़्शा रखा है

- ताहिर अज़ीम


खींच लाता है गांव...


खींच लाता है गांव में बड़े बूढ़ों का आशीर्वाद,

लस्सी, गुड़ के साथ बाजरे की रोटी का स्वाद

- डॉ सुलक्षणा अहलावत


शहरों में कहां मिलता है वो सुकून जो गांव में था,

जो मां की गोदी और नीम पीपल की छांव में था

-डॉ सुलक्षणा अहलावत


ऐ शहर के वाशिंदों !


आप आएं तो कभी गांव की चौपालों में

मैं रहूं या न रहूं, भूख मेजबां होगी

-अदम गोंडवी 


यूं खुद की लाश अपने कांधे पर उठाये हैं

ऐ शहर के वाशिंदों ! हम गाँव से आये हैं

-अदम गोंडवी


शहर में छाले पड़ जाते है जिन्दगी के पाँव में,

सुकून का जीवन बिताना है तो आ जाओ गाँव में.


गाँव में बड़े होने पर भी बच्चों को माँ-बाप डांटते है,

ऐसा लगता है जैसे अपनापन और खुशियाँ बांटते है.


गाँव में दिखती नही तरक्की की निशानी,

पर यहाँ की सुबह होती है बड़ी ही सुहानी.

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


Village Status in Hindi

कितना भी बड़ा जख्म या घाव हो,

अकेलापन महसूस नही होता अगर गाँव हो.


जहाँ सीधे-सादे लोगो का है डेरा,

खुशहाली से भरा वो गाँव है मेरा.


गाँव में, पैसे से जेब हल्की और दिल के बड़े होते है,

गैरों के मुसीबत में भी अपनों की तरह खड़े होते है.


Village Quotes in Hindi

शहर के बच्चे किताब के पेड़ में

पड़े झूले को देख सकते है,

मगर गाँव के बच्चे उस झूले में झूल कर

एक अनमोल ख़ुशी महसूस कर सकते है.


गाँव के बच्चे बारिश में भीगकर खुश हो जाते है,

शहर के बच्चे बारिश में भीगकर बीमार हो जाते है.


Village Shayari in Urdu

नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांव

हुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव

निदा फ़ाज़ली


जो मेरे गांव के खेतों में भूख उगने लगी

मेरे किसानों ने शहरों में नौकरी कर ली

आरिफ़ शफ़ीक़

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


खींच लाता है गांव में बड़े बूढ़ों का आशीर्वाद,

लस्सी, गुड़ के साथ बाजरे की रोटी का स्वाद

डॉ सुलक्षणा अहलावत


शहरों में कहां मिलता है वो सुकून जो गांव में था,

जो मां की गोदी और नीम पीपल की छांव में था

डॉ सुलक्षणा अहलावत


यूं खुद की लाश अपने कांधे पर उठाये हैं

ऐ शहर के वाशिंदों ! हम गाँव से आये हैं

अदम गोंडवी

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


गाँव शायरी

आप जब शहर से दिवाली, होली और अन्य त्यौहार पर गाँव में घर लौटकर आते है. तब आप बड़ा ही सुकून और ख़ुशी महसूस करते है. पूरे साल जितना खुश उस शहर में नही हो पाते है. उससे ज्यादा ख़ुशी यहाँ गाँव में कुछ ही दिन में पाते है. आपनो के लिए आप कुछ ना कुछ लेकर जाते है. उन छोटी चीजों में सदियों की खुशियाँ इक पल में पाते है. शहर बुरा नही है. आजकल के बेरोजगारी के दौर में एक मसीहा की तरह है.



Village Shayari in Hindi | Village Status in Hindi | Village Quotes in Hindi | गाँव शायरी | गाँव स्टेटस | गाँव पर शायरी

माना शहर में तुम्हारा वो तरक्की वाला मकान है,

मगर गाँव में गरीबों के जीवन में भी सुकून और शान है.


गाँव में जो लोग ज्यादा भाव खाते है,

लोग उनसे पैसा खूब खर्च करवाते है.


गाँव स्टेटस

जो गाँव का मजा शहर में ढूंढते है,

वो जीने का मजा जहर में ढूंढते है.


गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,

शहर में तरक्की कितनी भी करो लो

पर गाँव अपनों से मिलने आया करो.


गाँव के अनपढ़ बेरोजगारों को नौकरी देता है शहर,

कमियों के बावजूद गाँव पर उसका बड़ा एहसान है.


गाँव पर शायरी

ईश्वर से ही इतनी ताकत पाते है,

गाँव वाले हर मुसीबत से लड़ जाते है.


शहर इंसान से कितना कुछ छीन लेती है,

जिसके बदले में चंद कागज के नोट देती है.



कितना तकलीफ उठाकर कमाते है,

जब गाँव से कम उम्र के बच्चे शहर जाते है.


गाँव के बच्चे माँ-बाप की उम्मीदों को संग लाते है,

रूपया कमाने के लिए अपनी जिन्दगी भी दांव पर लगाते है.

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


My Village Status

ख़ुशी से कब हम अपना गाँव छोड़कर आते है,

पैसे कमाने के लिए अपने दिल को तोड़कर आते है.


बड़ा ही खुश हो जाता हूँ जब कोई मेरे गाँव से आता है,

जैसे वो कोई मरहम मेरे दिल के घाव का लाता है.


Village Shayari Hindi

मैं गाँव का ग्वाला,

तुम शहर की रानी प्रिये,

मैं तेरे प्यार में बावला,

बोलो कैसे बने अपनी कहानी प्रिये.


शहर की नौकरी जगाता है भगाता है,

अंत में गाँव में आकर ही हर कोई सुकून पाता है.


Status on Village in Hindi

गाँव का संस्कार है, कितना भी तेज चलूँ पर पाँव रूक जाता है,

जब मंदिर, मस्जिद, चर्च और गुरूद्वारा देखू तो सिर झुक जाता है.


शहर के लोग गम में पीते है,

गाँव के लोग गम में ही जीते है.


शहर की मक्कारी गाँव में आने लगी,

सीधे-सादे लोगो को ठग कर जाने लगी.


Village Life Shayari in Hindi

चेहरे पर ख़ुशी कमाने का है,

दिल में दर्द तो पूरे जमाने का है.

गाँव का सुकून चाहता हूँ

जो मर गया वो जूनून चाहता हूँ.


जो लोग शहर की दवा से ठीक नही हो पाते है,

वो लोग अक्सर गाँव की हवा से ठीक हो जाते है.


पेड़ में धागा बांधकर पूरी होती है मुरादे,

कितनी प्यारी-प्यारी सजोकर रखते है यादें.


विलेज शायरी इन हिंदी

दिल खुश हो जाता है गाँव के मेले में,

ख़ुशी का पता ही नही शहर के झमेले में.


गाँव में अनपढ़ है और रूढ़िवादी है,

मन के भाव को समझ ले इतने जज्बाती है.


Gaon Shayari

गाँव में चलती है कितनी हसीन हवाएं,

दम हो तो कोई इस तरह का मशीन बनाएं.


जिन्दगी कभी धूप में तो कभी छाँव में है,

जीवन जीने का असली मजा तो गाँव में है.


Village Shayari in Hindi | Village Status in Hindi | Village Quotes in Hindi

शहर में परिंदों के लिए भी ठिकाना नही है,

पर गाँव के बेरोजगारों को यह बताना नही है.


जो कल तक टूटा सा था वो जुड़ रहा है,

अब हर परिंदा गाँव की ओर मुड़ रहा है.


जब भी कोई गाँव से आता है,

अपनों के प्यार की छाँव लाता है.


Village Ki Shayari

जिन्दगी कैद हो गई शहर के ऑफिस और मकानों में,

कितना हम खेला करते थे गाँव के खेत-खलिहानों में.


मैं गाँव से पैसा कमाने निकलता हूँ,

पर गाँव को दिल से नही निकालता हूँ.

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


बाहर आकर पैसा कमाया बहुत,

गाँव का घर भी याद आया बहुत.


My Village Shayari in Hindi

शहर की तरह गाँव में भी मकानों के नंबर होते है,

पर घर अक्सर बूढ़े-बुजुर्गो के नाम से पहचाने जाते है.


शहर के साहब कभी गाँव घूम के आना,

गाँव तुझे अपना ना लगे तो बताना.


गाँव स्टेटस हिंदी

लगता है नजर हमारी लग गयी,

गाँव को शहर की बीमरी लग गयी.


काश !!! ख़्वाबों में ही सही अपने गाँव पहुँच जाएँ,

कमबख्त पूरी जिन्दगी ऐसे ख्वाब भी नही आएँ.


गाँव के लोगो के हालात खराब होते है,

मगर वो दिल के खराब नही होते है.


मेरा गाँव शायरी

दुखो को चकमा देकर,

आओ दबे पाँव चलते है,

सह्ह्र से दूर निकल कर

आओ गाँव चलते है.


काटने को पेड़ तुम आरी लेकर आ गये,

शहर से कितनी सारी बीमारी लेकर आ गये,

रोजगार की खातिर गये थे गाँव छोड़कर

गाँव में फिर से तुम बेकारी लेकर आ गये .


तपती धूप में वो किसान अकेला जलता है,

अपनी मेहनत से कितनों का पेट भरता है.


गाँव की यादें शायरी

शहर की बारिश किसे रास आती है,

गाँव की बारिश में मिट्टी से महक आती है.


शहर में नौकरी पाकर जो अहंकार से फूल जाते है,

वही लोग अक्सर गाँव में अपनों को भूल जाते है.


जब शहर में बीमार हो जाता हूँ,

गाँव जाना चाहता हूँ और माँ की याद आती है.


गाँव को पढ़े-लिखे लोगो की जरूरत है,

देखो पढ़े-लिखे लोगो को गाँव की जरूरत कब पड़ेगी.


Village Poem in Hindi


गाँव में जब भूख सताता है,

तो शहर का रास्ता नजर आता है,

वो हर तरह के दर्द को सह लेता है

जब घर की याद आये तो अकेले में रो लेता है.


गाँव में कई लोगो का पेट भरता है.

वो शहर में दिन रात मेहनत करता है,

कई बार उसी उदासी घेर लेती है,

दोस्तों का साथ उसे कुछ हौसला देती है.


माँ-बाप के सिर पर कर्ज का बोझ है,

उसे इस समस्या के हल की खोज है,

पैसा कमाना ही इस समस्या हल है

इसलिए बिना छुट्टी किये काम पर जाता रोज है.


गाँव की गलियां शायरी

गाँव की गलियाँ बड़ा ही याद आई,

जब शहर की गलियां जिन्दगी को उलझाई.


जो गाँव की गलियों में खेल कर बड़े होते है,

वो कम उम्र में ही अपने पैरों पर खड़े होते है.


गाँव की मिट्टी शायरी

ग़रीबी में भी अपने बच्चे को अच्छा संस्कार देना,

दुनिया में कही भी रहो गाँव की मिट्टी को प्यार देना.


जो गाँव की मिट्टी में पलते है,

वही इतिहास को बदलते है.


तुम शहर की चकाचौंध को रोनक कहते हो

परिंदों से पूछना गांव के भोर की कीमत क्या होती

गांव की कीमत इतनी रह गई अब

वाशिंदे यहाँ छुट्टियां मनाने आते हैं

गांव के घोसले छोड़ शहर नहीं गए

क्योंकि परिंदों को पैसों की भूख नहीं थी

वो बूढ़ा पेड़ बस सांसे देता था

पैसे देता तो सब गांव में ही रहते

कागज की नाव और बरगद की छांव में ठहरा था

हम खुशनसीब थे जो बचपन गांव में गुजारा था

वो धमा चौकड़ी, भागम भाग याद करते हैं

गांव के कच्चे रास्ते अब चुपचाप रहते हैं

नाजुक बीजो से पीपल बरगद ऊगा लेती है

गांव की मिट्टी शहर की इमारतों से ऊंची है

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


शहर में छाले पड़ जाते है जिन्दगी के पाँव में,

सुकून का जीवन बिताना है तो आ जाओ गाँव में.


गाँव में बड़े होने पर भी बच्चों को माँ-बाप डांटते है,

ऐसा लगता है जैसे अपनापन और खुशियाँ बांटते है.


गाँव में दिखती नही तरक्की की निशानी,

पर यहाँ की सुबह होती है बड़ी ही सुहानी.


Village Status in Hindi

कितना भी बड़ा जख्म या घाव हो,

अकेलापन महसूस नही होता अगर गाँव हो.


जहाँ सीधे-सादे लोगो का है डेरा,

खुशहाली से भरा वो गाँव है मेरा.


गाँव में, पैसे से जेब हल्की और दिल के बड़े होते है,

गैरों के मुसीबत में भी अपनों की तरह खड़े होते है.


Village Quotes in Hindi

शहर के बच्चे किताब के पेड़ में

पड़े झूले को देख सकते है,

मगर गाँव के बच्चे उस झूले में झूल कर

एक अनमोल ख़ुशी महसूस कर सकते है.


गाँव के बच्चे बारिश में भीगकर खुश हो जाते है,

शहर के बच्चे बारिश में भीगकर बीमार हो जाते है.


Village Shayari in Urdu

नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांव

हुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव

निदा फ़ाज़ली


जो मेरे गांव के खेतों में भूख उगने लगी

मेरे किसानों ने शहरों में नौकरी कर ली

आरिफ़ शफ़ीक़


खींच लाता है गांव में बड़े बूढ़ों का आशीर्वाद,

लस्सी, गुड़ के साथ बाजरे की रोटी का स्वाद

डॉ सुलक्षणा अहलावत


शहरों में कहां मिलता है वो सुकून जो गांव में था,

जो मां की गोदी और नीम पीपल की छांव में था

डॉ सुलक्षणा अहलावत


यूं खुद की लाश अपने कांधे पर उठाये हैं

ऐ शहर के वाशिंदों ! हम गाँव से आये हैं

अदम गोंडवी


Village Shayari in Hindi | Village Status in Hindi | Village Quotes in Hindi | गाँव शायरी | गाँव स्टेटस | गाँव पर शायरी

माना शहर में तुम्हारा वो तरक्की वाला मकान है,

मगर गाँव में गरीबों के जीवन में भी सुकून और शान है.

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


गाँव में जो लोग ज्यादा भाव खाते है,

लोग उनसे पैसा खूब खर्च करवाते है.


गाँव स्टेटस

जो गाँव का मजा शहर में ढूंढते है,

वो जीने का मजा जहर में ढूंढते है.


गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,

शहर में तरक्की कितनी भी करो लो

पर गाँव अपनों से मिलने आया करो.


गाँव के अनपढ़ बेरोजगारों को नौकरी देता है शहर,

कमियों के बावजूद गाँव पर उसका बड़ा एहसान है.


गाँव पर शायरी

ईश्वर से ही इतनी ताकत पाते है,

गाँव वाले हर मुसीबत से लड़ जाते है.


शहर इंसान से कितना कुछ छीन लेती है,

जिसके बदले में चंद कागज के नोट देती है.


Village Shayari in Hindi | Village Status in Hindi

कितना तकलीफ उठाकर कमाते है,

जब गाँव से कम उम्र के बच्चे शहर जाते है.


गाँव के बच्चे माँ-बाप की उम्मीदों को संग लाते है,

रूपया कमाने के लिए अपनी जिन्दगी भी दांव पर लगाते है.


My Village Status

ख़ुशी से कब हम अपना गाँव छोड़कर आते है,

पैसे कमाने के लिए अपने दिल को तोड़कर आते है.


बड़ा ही खुश हो जाता हूँ जब कोई मेरे गाँव से आता है,

जैसे वो कोई मरहम मेरे दिल के घाव का लाता है.


Village Shayari Hindi

मैं गाँव का ग्वाला,

तुम शहर की रानी प्रिये,

मैं तेरे प्यार में बावला,

बोलो कैसे बने अपनी कहानी प्रिये.


शहर की नौकरी जगाता है भगाता है,

अंत में गाँव में आकर ही हर कोई सुकून पाता है.


Status on Village in Hindi

गाँव का संस्कार है, कितना भी तेज चलूँ पर पाँव रूक जाता है,

जब मंदिर, मस्जिद, चर्च और गुरूद्वारा देखू तो सिर झुक जाता है.


शहर के लोग गम में पीते है,

गाँव के लोग गम में ही जीते है.


शहर की मक्कारी गाँव में आने लगी,

सीधे-सादे लोगो को ठग कर जाने लगी.


Village Life Shayari in Hindi

चेहरे पर ख़ुशी कमाने का है,

दिल में दर्द तो पूरे जमाने का है.

गाँव का सुकून चाहता हूँ

जो मर गया वो जूनून चाहता हूँ.


जो लोग शहर की दवा से ठीक नही हो पाते है,

वो लोग अक्सर गाँव की हवा से ठीक हो जाते है.


पेड़ में धागा बांधकर पूरी होती है मुरादे,

कितनी प्यारी-प्यारी सजोकर रखते है यादें.

Village PIC HEART TOUCHING INDIA


विलेज शायरी इन हिंदी

दिल खुश हो जाता है गाँव के मेले में,

ख़ुशी का पता ही नही शहर के झमेले में.


गाँव में अनपढ़ है और रूढ़िवादी है,

मन के भाव को समझ ले इतने जज्बाती है.


Gaon Shayari

गाँव में चलती है कितनी हसीन हवाएं,

दम हो तो कोई इस तरह का मशीन बनाएं.


जिन्दगी कभी धूप में तो कभी छाँव में है,

जीवन जीने का असली मजा तो गाँव में है.


Village Shayari in Hindi | Village Status in Hindi | Village Quotes in Hindi | गाँव शायरी | गाँव स्टेटस | गाँव पर शायरी

शहर में परिंदों के लिए भी ठिकाना नही है,

पर गाँव के बेरोजगारों को यह बताना नही है.


जो कल तक टूटा सा था वो जुड़ रहा है,

अब हर परिंदा गाँव की ओर मुड़ रहा है.


जब भी कोई गाँव से आता है,

अपनों के प्यार की छाँव लाता है.


Village Ki Shayari

जिन्दगी कैद हो गई शहर के ऑफिस और मकानों में,

कितना हम खेला करते थे गाँव के खेत-खलिहानों में.


मैं गाँव से पैसा कमाने निकलता हूँ,

पर गाँव को दिल से नही निकालता हूँ.


बाहर आकर पैसा कमाया बहुत,

गाँव का घर भी याद आया बहुत.


My Village Shayari in Hindi

शहर की तरह गाँव में भी मकानों के नंबर होते है,

पर घर अक्सर बूढ़े-बुजुर्गो के नाम से पहचाने जाते है.


शहर के साहब कभी गाँव घूम के आना,

गाँव तुझे अपना ना लगे तो बताना.


गाँव स्टेटस हिंदी

लगता है नजर हमारी लग गयी,

गाँव को शहर की बीमरी लग गयी.


काश !!! ख़्वाबों में ही सही अपने गाँव पहुँच जाएँ,

कमबख्त पूरी जिन्दगी ऐसे ख्वाब भी नही आएँ.


गाँव के लोगो के हालात खराब होते है,

मगर वो दिल के खराब नही होते है.


मेरा गाँव शायरी

दुखो को चकमा देकर,

आओ दबे पाँव चलते है,

सह्ह्र से दूर निकल कर

आओ गाँव चलते है.


काटने को पेड़ तुम आरी लेकर आ गये,

शहर से कितनी सारी बीमारी लेकर आ गये,

रोजगार की खातिर गये थे गाँव छोड़कर

गाँव में फिर से तुम बेकारी लेकर आ गये .


तपती धूप में वो किसान अकेला जलता है,

अपनी मेहनत से कितनों का पेट भरता है.


गाँव की यादें शायरी

शहर की बारिश किसे रास आती है,

गाँव की बारिश में मिट्टी से महक आती है.


शहर में नौकरी पाकर जो अहंकार से फूल जाते है,

वही लोग अक्सर गाँव में अपनों को भूल जाते है.


जब शहर में बीमार हो जाता हूँ,

गाँव जाना चाहता हूँ और माँ की याद आती है.


गाँव को पढ़े-लिखे लोगो की जरूरत है,

देखो पढ़े-लिखे लोगो को गाँव की जरूरत कब पड़ेगी.


Village Poem in Hindi | गाँव की कविता

गाँव में जब भूख सताता है,

तो शहर का रास्ता नजर आता है,

वो हर तरह के दर्द को सह लेता है

जब घर की याद आये तो अकेले में रो लेता है.


गाँव में कई लोगो का पेट भरता है.

वो शहर में दिन रात मेहनत करता है,

कई बार उसी उदासी घेर लेती है,

दोस्तों का साथ उसे कुछ हौसला देती है.


माँ-बाप के सिर पर कर्ज का बोझ है,

उसे इस समस्या के हल की खोज है,

पैसा कमाना ही इस समस्या हल है

इसलिए बिना छुट्टी किये काम पर जाता रोज है.


गाँव की गलियां शायरी

गाँव की गलियाँ बड़ा ही याद आई,

जब शहर की गलियां जिन्दगी को उलझाई.


जो गाँव की गलियों में खेल कर बड़े होते है,

वो कम उम्र में ही अपने पैरों पर खड़े होते है.


गाँव की मिट्टी शायरी

ग़रीबी में भी अपने बच्चे को अच्छा संस्कार देना,

दुनिया में कही भी रहो गाँव की मिट्टी को प्यार देना.


जो गाँव की मिट्टी में पलते है,

वही इतिहास को बदलते है.

Post a Comment

0 Comments