header ads

4 line hindi shayari best शायरी इन हिंदी

4 line hindi shayari best शायरी इन हिंदी

4 line hindi shayari best shayari hindi love shayari in hindi hindi love shayari in hindi

 ये मैंने कब कहा की मेरे हक में फैसला करे 

वो मुझसे गर खुश नहीं तो मुझे जुदा करे 

मैं उसके साथ  जिस तरह गुजरता हूँ जिन्दगी 

उसको चाहिए मेरा सुक्रिया अदा करे . 


तहज़ीब हाफ़ी के मुशायरों से बेहतरीन 10 शेर

4 line hindi shayari best शायरी इन हिंदी


 

पराई आग पे रोटी नहीं बनाऊँगा 

मैं भीग जाऊँगा छतरी नहीं बनाऊँगा 


मैं जंगलों की तरफ़ चल पड़ा हूँ छोड़ के घर 

ये क्या कि घर की उदासी भी साथ हो गई है

तुम्हें हुस्न पर दस्तरस है मोहब्बत वोहब्बत बड़ा जानते हो 

तो फिर ये बताओ कि तुम उसकी आंखों के बारे में क्या जानते हो 


ये ज्योग्राफिया, फ़लसफ़ा, साइकोलाॅजी, साइंस, रियाज़ी वगैरह

ये सब जानना भी अहम है मगर उसके घर का पता जानते हो ?

रुक गया है वो या चल रहा है हमको सब कुछ पता चल रहा है 

उसने शादी भी की है किसी से और गावों में क्या चल रहा है 


तेरा चुप रहना मेरे ज़ेहन में क्या बैठ गया 

इतनी आवाज़ें तुझे दीं कि गला बैठ गया 

यूँ नहीं है कि फ़क़त मैं ही उसे चाहता हूँ 

जो भी उस पेड़ की छाँव में गया बैठ गया 


ये एक बात समझने में रात हो गई है 

मैं उस से जीत गया हूँ कि मात हो गई है 

किसे ख़बर है कि उम्र बस उस पे ग़ौर करने में कट रही है 

कि ये उदासी हमारे जिस्मों से किस ख़ुशी में लिपट रही है 


चेहरा देखें तेरे होंट और पलकें देखें 

दिल पे आँखें रक्खें तेरी साँसें देखें


बड़ी मुश्किल से दिल को समझाया हमने

गमो मै खुद को खुश जतय हमने

जी भरके रोना चाहती थी आँखे

खुशियों के बहाने अश्क़ो को बहाया हमने



बड़ी मुद्दत से लगाये बैठे है हम तेरी आस

सीने मे छुपाए बैठे है तुझ से मिलने की प्यास.

कौन सा होगा वो खुश नसीब दीन.

जब आयेंगे तुम हमारे पास


बर्बाद जो करे कोई जिंदगी प्यार के नाम पे,

बेवफाई जो दे जाए वफ़ा के नाम पे,

जख्म जो दे जाए दवा के नाम पे,

खुदा भी रो पड़े ऐसे अंजाम पे.


बरसों बाद आपसे बात हुई,

दिल फिर एक बार कमज़ोर हो गया,

अच्छा भला अकेले जी रहे थे हम,

आज फिर अकेले पन का एहसास दिला दिया…

4 line hindi shayari best शायरी इन हिंदी



बेखुदी की ज़िंदगी हम जिया नहीं करते,

जाम दुसरो से छीनकर पिया नहीं करते,

उनको मोहोब्बत हे तो आकर इज़हार करे

वरना हम किसका पीछा नहीं करते…



भीड़ होगी शहर के हर मोड़ पर,

मुझे तो सूना ये शहर लगता है.

मैं तो जीता हूँ एक लाश की तरह,

बिना उसके जीना मुहाल लगता है…



बिन देखे तेरी तस्वीर बना सकते है,

बिना पुषे तेरा हाल बता सकते है ,

हमारी दोस्ती में इतना दम है क तेरे आंसू ,

अपनी आँखों से गिरा सकते है .



बिना चोट खाए एहसास नहीं होता,

हर कोई दुनिया में ख़ास नहीं होता,

मगर जिसकी आरजू दिल से हो जाती है,

वो ही शख्स हमारे पास नहीं होता…


बिना वडा भी तेरा इंतज़ार है,

जुदा होके भी तुमसे प्यार है.

गवाही देती है तेरे चेहरे की उदासी,

मिलने को मुझसे तू भी बेकरार है.



बूँद-बूँद से है सागर की गहराई,

इसकी हर बूँद है मुझ में समाई,

कोई मांगे तो एक बूँद न दे सकेंगे,

क्योंकि हर बूँद में है आपकी दोस्ती समाइ.



बुरा वक़्त इंसान को कमजोर नहीं बेबस बना देता है,

जो अपनी होते है,

परायी हो जाती है,

जो दिल मैं हूँ वह तुम्हीं प्रॉब्लम कहती है….


चाहता हु तुझे प्यार दू,

दोस्त पे अपनी जिंदगी वार दू,

जब तेरा मैसेज नहीं मिलता तो,

मन करता है तेरी जान निकाल दू.


चाँद को गरूर है

की उसके पास नूर है तो क्या हुआ

मुझे भी गरूर है

की मेरा दोस्त लंगूर है


चाह कर भी उसे अपना न बना सके,

इश्क़ कर क भी उन्हें ये जता ना सके.

दिल था हमारा कोई कागज़ का टुकड़ा नहीं,

इसलिए चीर कर कभी भी दिखा न सके…….



चाहा हमने उससे दिल-ो-जान से ज़्यादा,

पर सपने टूट कर चूर हो गए,

रसम-ो-रिवाज़ हैं वजह इस की,

जो आज हम उस से दूर हो गए.



चाहा तुझे दिल-ो-जान से

निभाया हर किया हुआ वादा आपसे

कहा आपने कभी न रूठेंगे हमसे

हो गयी इतनी सी खता

और मुँह मोड़ कर चल दिए हमारे जहाँ से



चाहतें ये कैसी हैं मुझ में आपके लिए

न रोना नसीब न हंसना नसीब

खो जाता हूँ आपको देख कर इस कदर

क सपने में भी न सोना नसीब न जागना नसीब



चाहते थे जिन्हें उनके दिल बदल गए

समुन्दर गहरे थे साहिल बदल गए

क़त्ल ऐसा हुआ टुकड़ो में मेरा

कभी बदले खंज़र तो कभी कातिल बदल गए



चले तो हम साथ साथ ही थे

न जाने कोनसे मोड़ पैर अलग हो गए,

वहा तुम खो गए, यहाँ हम

न जाने मंज़िल कैसे पीछे छोड़ गए.



चलता रहा इस तनहा सफ़र में,

आते रहे गम के तूफ़ान इस डगर में,

फिर भी न डगमगाए में सफर में,

यही चलता रहा इस तनहा सफ़र में


चाँद ने रब से चाँदनी मांगी है,

सूरज ने रब से रोशनी मांगी है,

रब ने पूछा हमसे हमारी चाहत,

हमने सिर्फ अपने दोस्त की ख़ुशी मांगी है.

4 line hindi shayari best शायरी इन हिंदी



चाँद से जब मुलाकात होती है,

आपके बारे में कुछ बात होती है.

वो कहते है मेरे पास खूबसूरत सितारा है,

उनसे भी खूबसूरत प्यार हमारा है.


चंडी की दीवार न थोड़ा

लेकिन प्यार भरा दिल तोड़ दिया

कुछ चिल्लर पैसों के लिए

मुझ से मिलना छोड़ दिया


चीज़ बेवफ़ाई से बढ़कर क्या होगी,

घूम-इ-हालात जुदाई से बढ़कर क्या होगी,

जिसे देनी हो सज़ा उम्ब्रभर के लिए,

सज़ा तन्हाई से बढ़कर क्या होगी…..


चिरागों की रौशनी जब ज़रा हिली,

लगा तुम्हारी एक आहट सी मिली,

जाके देखा जब दर पे,

तो फिर वही काफिर हवा मिली..


चिरागो का क्या है ये तो जलते रहेंगे,

गुलाबो का क्या है ये तो खिलते रहेंगे.

ये मत सोचना की हम नहीं है आपके पास,

बनके हवा हर पल आपसे मिलते रहेंगे.



छोटे ते तो दुनिया न देखि

बड़े हुए तो मिले गम

है रे दुनिये क्या बनाया है तूने..

बे परस्त होगये हम…



चुप-चाप कही सोचा तो है,

एक ख्वाब हमने देखा तो है,

कल शाम यु ही तनहा बैठकर,

तेरे बारे में सोचा तो है.



दिल से निकली दुआ है हमारी.

ज़िन्दगी में मिले अप्पको खुशिया साडी.

गम न दे खुदा आपको कभी.

चाहे तो एक ख़ुशी कम कर दे हमारी.



डाली से पत्ते, यु ही गिरा नहीं करते,

बिछड़ के लोग ज्यादा जिया नहीं करते,

कुछ नए संस हो तो भेजिए,

पुराने हम बार-बार पड़ा नहीं करते.



सारे सपने तोड़ क बैठे है

सारे अरमान तोड़ क बैठे है

न कीजिये हमसे वफ़ा की बातें

अभी अभी दिल क टुकड़े जोड़कर बैठे है


दर्द की दीवार पे फरियाद लिखा करते हैं,

हर रात तन्हाई को आबाद किया करते हैं,

ऐ खुदा खुश रखना उने हमेशा,

जीने हम हर पल याद किया करते हैं.


दर्द से दोस्ती हो गयी यारों,

ज़िन्दगी बेदर्द हो गयी यारों.

क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा,

दूर तक रोशनी तो हो गयी यारों….



दीवाना हूँ तेरा इंकार नहीं,

कैसे कह दू के प्यार नहीं,

कुछ शरारत तो तेरी नज़रों मैं भी थी,

मैं अकेला ही गुनाहगार नहीं.


देखा नहीं है कोई तुझसे,

देखने तुझे जन्नत से भी लौट आएंगे,

जब तक दीदार न हो तेरा,

मर कर भी हम चैन से न मार पाएंगे.


धोती ने कहा पाजामे से हम दोनों बने है धागे से,

फर्क है तो सिर्फ इतना है की

मैं खुलता हूँ पीछे से और

तुम खुलते हो आगे से.


दिखाकर एक झलक,

वो अपने हाथों से मुखड़ा छिपा लेती है.

तरसते रहते हैं हम उनके दीदार को,

वो दिल पर बिजली गिराती चली जाती है…


दिल चाहता है तुमसे प्यारी सी बात हो,

खामोश तराने हों, लंबी सी रात हो,

फिर उनसे रात भर यही मेरी बात हो,

तुम मेरी जिंदगी हो,तुम ही मेरी कायनात हो.


दिल ही दिल में,उन्हें चाहते है,

दिल ही दिल में,उन्हें प्यार करते है,

मुश्किल है उनका राह से गुज़ारना,

फिर भी हर मोड़ पे,उनका इंतज़ार करते है.


दिल तोड़के हस्ती हो मेरा

वफाए मेरी याद करोगी.

जब दुनिया में मैं ना रहा

तो किसे बर्बाद करोगी.


दिल क ज़ख्मो की सिफारिश न हुई

हमारी मुस्कान की फरमाइश न हुई

जिसे देखने को तरसती रही आँखे

मगर उन्हें हमसे मिलने की ख्वाहिश न हुई.


दिल के ज़ख्म ज़ुबान पर लाया नहीं करते

हम अपनी आँखों से आंसू बहाया नहीं करते

ज़ख्म कितना ही गहरा क्यों न हो

हम अपने होतो से मुस्कराहट हटाया नहीं करते


दिल के आईने किसी को छुपा लिया,

और दर्द को अपनी इन आँखों में समां लिया,

आइना तो टूट गया मगर,

हमने आंसुओ को उसके अपना साया बना लिया…



दिल के ज़ख्मों की सिफारिश न हुई

हमारी मुस्कान की फरमाइश न हुई

जिसे देखने को तरसती रही आँखे

मगर उन्हें हमसे मिलने की ख्वाहिश न हुई


दिल को दिल से चुराया आपने

दूर होते हुए भी रिश्ता निभाया आपने

कभी भूल नहीं पाएंगे हम आपको

क्योंकि याद रखना ही सिखाया आपने


दिल को किसी पल भी करार न आये

न तेरा कोई खत या सन्देश न आया

तुम नादान हो, नासमझ हो या फिर कुछ और

तुम्हे सब कुछ आया मगर प्यार करना न आया

Post a Comment

0 Comments