header ads

Heart touching lines on life in Hindi sad love

Heart touching lines on life in Hindi sad love

 हाथ से बीतते हुए लम्हों को कैसे रोकूँ,

जो मुकद्दर-ए-ज़िन्दगी है उसे कैसे टोकूं,

खुदा न करे कि ऐसा लम्हा आये,

जो सारी ख्वाहिशों को संग ले जाए,

इजाज़त बस खुदा से इतनी चाहिए,

जितनी भी ज़िन्दगी है बस तेरी याद में बीत जाये।

heart touching lines on life in hindi heart touching lines in hindi download sad heart touching lines love

Heart touching lines on life in hindi sad love


तेरे बिना भी क्या ज़िन्दगी,

चलती तो हवाएं भी हैं,

तेरे बिना क्या ज़िन्दगी,

बदलते तो रुख भी हैं,

फर्क बस इतना सा है,

कि हवाओं और रुख का मोड़ होता है,

मैं तो यूँ भी तेरे बिना बेवजह हूँ।


राह चलते तो हजारों मुसाफिर मिलते हैं,

ज़िन्दगी में तो कई मुसाफिर अपने बनते हैं,

अपनों और गैरों में भी बहुत फर्क होता है,

कुछ पास होके भी दूर हैं,

कुछ दूर होके भी दिल के सबसे करीब हैं।


मुकम्मल तो होने दो...

इश्क़ में खुद को गिरफ्तार तो होने दो,

अपने जिस्म पे मेरा इख्तियार तो होने दो,

मोहब्बत यूँ ना ठुकराओं मेरी ये नाइंसाफी है,

मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।


मेरे प्यार को जरा तैयार तो होने दो,

मेरी हदों को जरा सा पार तो होने दो,

अब तलक तुमने मेरी हद कहाँ नापी है,

मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।


ठीक से अभी आँखों को चार तो होने दो,

मेरे इश्क़ का जुनून खुद पे सवार तो होने दो,

दिल की गहराइयों में अब तलक तू कहाँ झाँकी है,

मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।


तुमहारी पलकों को मेरा इंतज़ार तो होने दो,

भीतर से हाँ बाहर से इंकार तो होने दो,

मेरी तन्हाइयों ने बस तेरी ही राह ताकी है,

मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।


अपना दिल मेरी ओर फ़रार तो होने दो,

ज़माने की नज़रों में मुझे गुनहगार तो होने दो,

इश्क़ करना ग़र है गुनाह तो माफ़ी है,

मुकम्मल तो होने दो, अभी बाकी है।


 

Heart touching lines on life in hindi sad love

ये खुशी तो रही...

कम से कम ये खुशी तो रही,

तू मेरे ख्वाब का हिस्सा सही,

है बस उनसे शिकायत यही,

कहनी थी जो बात नहीं कही,

गूँजती है अब भी कानों में,

बात जो तुमने कभी नहीं कही,

नाव लिए हम बैठे ही रहे,

और नदी दूर से बहती रही,

उम्र गुजरी गुनगुनाते हुए,

वो ग़ज़ल जो अधूरी रही।


- डॉ. वेद प्रकाश भारद्वाज

उल्फत बदल गई कभी नीयत बदल गई,

खुदगर्ज़ जब हुए तो फिर सीरत बदल गई,

कुछ लोग अपना कसूर दूसरों पे डाल कर,

ये सोचते हैं कि उनकी हकीक़त बदल गई।


ख्वाहिश तो थी मिलने की

पर कभी कोशिश नहीं की,

सोचा जब खुदा माना है उसको

तो बिन देखे ही पूजेंगे।



हम तो बने ही थे तबाह होने के लिए,

तेरा छोड़ जाना तो महज़ बहाना बन गया।


मरना भी मुश्किल है जिस शख्श के वगैर,

उस शख्स ने ख्वाबों में भी आना छोड़ दिया​।



वो मुस्कान थी कहीं खो गयी,

और मैं जज्बात था कहीं बिखर गया।


किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं

अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर खामोश।


 

जिंदगी बड़ी अजीब सी हो गयी है,

जो मुसाफिर थे वो रास नहीं आये,

जिन्हें चाहा वो साथ नहीं आये।


 

Heart touching lines on life in hindi sad love

अधूरी मोहब्बत मिली तो नींदें भी रूठ गयी,

गुमनाम ज़िन्दगी थी तो कितने सकून से सोया करते थे।


गुमनामी का अँधेरा कुछ इस तरह छा गया है,

कि दास्ताँ बन के जीना भी हमें रास आ गया है।


ख्वाहिश तो थी मिलने की

पर कभी कोशिश नहीं की,

सोचा जब खुदा माना है उसको

तो बिन देखे ही पूजेंगे।


हम तो बने ही थे तबाह होने के लिए,

तेरा छोड़ जाना तो महज़ बहाना बन गया।


मरना भी मुश्किल है जिस शख्श के वगैर,

उस शख्स ने ख्वाबों में भी आना छोड़ दिया​।



वो मुस्कान थी कहीं खो गयी,

और मैं जज्बात था कहीं बिखर गया।


किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं

अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर खामोश।


जिंदगी बड़ी अजीब सी हो गयी है,

जो मुसाफिर थे वो रास नहीं आये,

जिन्हें चाहा वो साथ नहीं आये।


अधूरी मोहब्बत मिली तो नींदें भी रूठ गयी,

गुमनाम ज़िन्दगी थी तो कितने सकून से सोया करते थे।


गुमनामी का अँधेरा कुछ इस तरह छा गया है,

कि दास्ताँ बन के जीना भी हमें रास आ गया है।


देखते हैं अब क्या मुकाम आता है साहब,

सूखे पत्ते को इश्क़ हुआ है बहती हवा से।


अजीब सी बस्ती में ठिकाना है मेरा,

जहाँ लोग मिलते कम झांकते ज़्यादा है।


बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना,

कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में।


मेरे दर्द का जरा सा हिस्सा लेकर तो देखो,

सदियों तक याद करते रहोगे तुम भी।


तेरे उतारे हुए दिन पहन के अब भी मैं,

तेरी महक में कई रोज़ काट देता हूँ।


जिनका मिलना मुकद्दर में लिखा नहीं होता,

उनसे मोहब्बत कसम से बा-कमाल होती है।


बड़ा ही फर्क था तेरी और मेरी मोहब्बत में,

तूने सिर्फ आजमाया हमने सिर्फ यकीन किया।


मोहब्बत यूँ ही किसी से हुआ नहीं करती,

वजूद भुलाना पड़ता है, किसी को चाहने के लिए।




ये ख्वाहिशों के काफिले भी अजीब होते हैं,

अक्सर वहीँ से गुजरते हैं जहाँ रस्ते नहीं होते।


ऐसा क्या लिखूँ कि तेरे दिल को तस्सली हो जाए,

क्या ये बताना काफी नहीं कि मेरी ज़िन्दगी हो तुम।


उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी,

उसमें एक हलकी सी लकीर मेरी भी थी।


अगर मोहब्बत नही थी तो बता दिया होता,

तेरे एक चुप ने मेरी ज़िन्दगी तबाह कर दी।


ना पीछे मुड़ के देखो ना आवाज़ दो मुझको,

बड़ी मुश्किल से सीखा है मैंने अलविदा कहना।


मुस्कुराते रहोगे तो दुनिया आपके क़दमों में होगी,

वरना आंसुओं को तो तो आँखें भी पनाह नहीं देती।


सादगी अगर हो लफ्जो में हो तो यकीन मानो,

प्यार बेपनाह और दोस्त बेमिसाल मिल ही जाते हैं।


मैं हाथ की नब्ज़ काटे बैठा हूँ,

शायद तुम दिल से निकल जाओ ख़ून के ज़रिये।


मेरी खामोशी से उसे कभी कोई फर्क नहीं पड़ता,

शिकायत में दो लफ़्ज कह दूं तो चुभ जाते हैं।


दिल टूटने पर भी जो शख्स शिकायत तक न करे,

उस शख्स की मोहब्बत में कमियां न निकाला कर।



शायद तेरा नज़रिया मेरे नज़रिये से अलग था,

तुझे वक्त गुज़ारना था और मुझे जिन्दगी।


माना कि सब कुछ पा लुँगा मैं अपनी जिन्दगी में,

मगर वो तेरे मेहँदी लगे हाथ मेरे ना हो सकेंगे ।


कभी हमने सोचा न था,

तुमसे जुदा हो जायेंगे,

सांसे खफा हो जायेंगी,

हम दर-बदर हो जायेंगे,

ख्वाबों में आकर इस-कदर,

हमको जलाया ना करो,

दीवाने हैं, दीवानों का क्या,

इक दिन फना हो जायेंगे।

Post a Comment

0 Comments